सावन सिंधारा में गानों पर झूमी विजयवर्गीय महिला संगठन की सदस्‍य

0

दैनिक झारखंड न्‍यूज

रांची । राजधानी रांची के कोकर औद्योगिक क्षेत्र के निरामया अस्पताल के लायंस क्लब के सभागार में विजयवर्गीय महिला संगठन की रांची इकाई ने सावन सिंधारा का आयोजन किया। संगठन की सदस्‍यों ने मारवाड़ी संस्कृति के गानों पर नृत्य किया। कार्यक्रम में सावन के झूले के साथ-साथ हौजी समेत अनेक प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

संगठन की प्रभारी अनुपमा विजयवर्गीय ने सिंधारा के महत्व को बताया। उन्‍होंने कहा कि सावन का तीसरा सोमवार तीज के रूप में मनाया जाता है। ये त्योहार पंजाबी, हरियाणवी और राजस्थानी महिलाओं के लिए बहुत खास होता है। इससे कई तरह की रीति-रिवाज जुड़े हैं। इनमें से जो महिलाओं के दिल के सबसे करीब है, वह है सिंधारा। हर महिला इसके आने का इंतजार करती हैं। खासकर नव विवाहिता, जो ससुराल में तीज मनाती हैं। ननद या देवर बड़े ही स्नेह के साथ इसे लेकर आते हैं। इसी से सज-संवर कर पूजा की जाती है।

सदस्‍यों ने बताया कि आमतौर पर सिंधारे में खूबसूरत परिधान, मेहंदी गहने और मिठाइयां लेकर जाई जाती है। यह रीति-रिवाज से जुड़ा एक खास तोहफा होता है। इसमें श्रृंगार के सामान को बड़ी अहमियत दी गई है।  सिंधारे में सोलह श्रृंगार को शामिल करके सदा सुहागन रहने की शुभकामनाएं दी जाती है। इस शगुन में रंगो की खास जगह है। शगुन में कई तरह के रंगों के परिधान को शामिल किया जाता है, लेकिन लाल रंग को तवज्जो दी गई है। सिंधारे में लहरिया की साड़ी या अन्य परिधानों को शुभ माना जाता है। इस दिन नव विवाहिता सोलह श्रृंगार के साथ लाल जोड़े में तैयार होती हैं। उनके सिंधारे में लाल रंग को प्रमुखता से शामिल किया जाता है।

प्रीति विजयवर्गीय ने बताया कि शादी के बाद पहली तीज महिला अपने मायके में मनाती हैं। जहां सास अपनी बहू के लिए ये प्यार भरा तोहफा यानी सिंधारा भेजती है। इसके बाद मायके से सिंधारा भेजा जाता है। इसके अलावा सगाई के बाद भी सास अपनी होने वाली बहू के लिए सिंधारा भेजती हैं। सिंधारा के दिन घेवर की मिठाई खाने की भी खास परंपरा है। कार्यक्रम को सफल बनाने में श्रीमती अनुपमा, प्रीति, माया, निशा, अनुराधा, बबिता, उमा, प्रिया विजयवर्गीय और समाज की सभी महिला सदस्य का योगदान रहा।

सिंधारा में सुशीला विजयवर्गीय, रेखा विजयवर्गीय, संगीता विजयवर्गीय, साधना विजयवर्गीय, उषा विजयवर्गीय, आस्था विजयवर्गीय, श्रुति विजयवर्गीय, रीना विजयवर्गीय, विजयलक्ष्मी विजयवर्गीय, सोनी विजयवर्गीय, अनिता विजयवर्गीय, विनीता विजयवर्गीय, स्वाति विजयवर्गीय, सोनम विजयवर्गीय, ज्योति विजयवर्गीय, सुमन विजयवर्गीय, गीता विजयवर्गीय, सुषमा विजयवर्गीय, सरोज विजयवर्गीय, आशा विजयवर्गीय, रेनू विजयवर्गीय, आरती विजयवर्गीय, रजनी समेत अन्य विजयवर्गीय महिला संगठन की महिलाएं शामिल हुई।

Leave A Reply

Your email address will not be published.