चैंपियन ऑफ चेंज फॉर चाइल्ड राइट्स के रूप में यूनिसेफ से जुड़ी महिला खिलाड़ी

0
  • अंडर-17 महिला वर्ल्‍ड कप खिलाड़ियों की संभावित सदस्यीय टीम का है हिस्सा

दैनिक झारखंड न्‍यूज

रांची । कोविड-19 महामारी के बीच अगले साल फरवरी-मार्च में प्रायोजित फीफा वर्ल्‍ड कप 2021की तैयारी के लिए गोवा में प्रशिक्षण प्राप्त कर रही अंडर-17 महिला फुटबॉल खिलाड़ियों के दल में शामिल झारखंड की 8 महिला खिलाड़ी अपने घर लौट आई हैं। ये लड़कियां अंडर-17 महिला वर्ल्‍ड कप खिलाड़ियों की संभावित 35 सदस्यीय टीम का हिस्सा हैं।

फुटबॉल राज्य का पारंपरिक खेल नहीं है, लेकिन पिछले कुछ वर्षों से इस खेल को बढ़ावा देने और प्रोत्साहित करने के लिए झारखंड अपने युवा लड़कियों और लड़कों के बीच फुटबॉल संस्कृति का निर्माण कर रहा है।

रांची में 23 जुलाई को इन आठ लड़कियों से बातचीत करते हुए झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा, ‘ये लड़कियां हमारी गौरव हैं। हमारी बेटियों ने जबरदस्त साहस और धैर्य का प्रदर्शन किया है। अब यह सुनिश्चित करना हमारी जिम्मेवारी है कि उनके सपनों को साकार करने के लिए उन्हें जरूरी सुविधाएं, कौशल और मार्गदर्शन प्राप्त हो, ताकि वे अंतरराष्ट्रीय मंच और वर्ल्‍ड कप के दौरान बेहतर तरीके से देश का प्रतिनिधित्व कर सकें।’

ये आठ लड़कियां आदिवासी समुदाय से संबंध रखती हैं। गांवों से आती हैं। इस अवसर पर यूनिसेफ झारखंड के प्रमुख प्रसांता दास ने कहा, ‘झारखंड की लड़कियां, विशेषकर आदिवासी क्षेत्रों की लड़कियां राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों स्तरों पर खेलों में आगे रही हैं। हमें यह जानकर खुशी हो रही है कि झारखंड की आठ लड़कियों को 35 सदस्यीय अंडर-17 फीफा वर्ल्‍ड कप राष्ट्रीय शिविर के लिए चुना गया है। इस खेल के प्रति इनकी प्रतिबद्धता देखकर खुशी होती है।’

इन लड़कियों को सहयोग प्रदान करने और प्रोत्साहित करने के लिए यूनिसेफ ने खेल विभाग के सहयोग से इन खिलाड़ियों को टी-शर्टस् प्रदान किए। ‘चैंपियन ऑफ चेंज फॉर चाइल्ड राइट्स’ के रूप में उन्हें अपने साथ जोड़ा। इस पर्यटन सचिव पूजा सिंघल ने कहा, ‘हमारी युवा लड़कियों ने अपनी कड़ी मेहनत और उपलब्धियों के माध्यम से सतत विकास लक्ष्य-2030 के प्रति अपनी सच्ची भावना का प्रदर्शन किया है। हमें यूनिसेफ के साथ साझेदारी करते हुए खुशी हो रही है। आशा करते हैं कि यह साझेदारी भविष्य में चैंपियन ऑफ चेंज फॉर चाइल्ड राइटस को और सशक्त बनाएगी।’

इन चैंपियनों को यूनिसेफ द्वारा बाल अधिकारों, किशोर-किशोरियों के मुद्दों, समुचित पोषण की आवश्कता, माहवारी स्वच्छता, मानसिक स्वास्थ्य एवं मनो सामाजिक परामर्श आदि मुद्दों पर राज्य सरकार को दी जाने वाली तकनीकी सहयोग के रूप में प्रशिक्षित किया जाएगा।

श्री दास ने झारखंड की अंडर-17 महिला खिलाडियों के लिए की गई पहल के लिए झारखड सरकार और खेल विभाग की सचिव को बधाई दी। उन्होंने कहा, ‘खेलों में महिलाओं को बढ़ावा देने की सरकार की प्रतिबद्धता, विशेष रूप से हाशिए के समुदायों और सामाजिक एवं आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग की लड़कियों के लिए की गई पहल सराहनीय है।’

Leave A Reply

Your email address will not be published.