महिला काव्य मंच की तमिलनाडु ईकाई ने की काव्य-गोष्ठी

0

दैनिक झारखंड न्‍यूज

रांची । महिला काव्य मंच की तमिलनाडु ईकाई के तत्‍वावधान में 22 जुलाई को काव्य-गोष्ठी का आयोजन किया गया। आज की काव्य गोष्ठी के मुख्य विषय सावन, हरियाली, यादें और बारिश थे।

काव्य मंच की अध्यक्षा श्रीमती सरला विजय सिंह ने सभी कवि का स्वागत किया। गोष्ठी का शुभारंभ श्रीमती रेखा चौहान द्वारा प्रस्तुत मां शारदा की वंदना से हुआ।

राष्ट्रीय प्रभारी (दक्षिण प्रांत) डॉ मंजु रुस्तगी ने कहा कि यह मंच जिस गति से विकास कर रहा है, यह सबके सहयोग का ही परिणाम है। विषय परिस्थिति अनुरूप ही रखा गया है, जो मन में आशा और आनंद का संचार करता है। श्रीमती शोभा चोरड़िया ने संचालन किया। श्रीमती सरला विजय सिंह ने सभी कवियों का इस काव्य गोष्ठी को सुरमयी एवं रसप्रिय  बनाने के लिये आभार जताया। इस काव्य गोष्ठी मे 23 कवि ने शिरकत कर अपनी कविताओं का पाठ किया।

1- वासुदेवन शेष : बारिशों में भीगना भूल गए

2- मोहिनी चोरड़िया : आई सावन की बहार..

3- प्रह्लाद श्रीमाली : सावन और किसान

4- सुजाता गुप्ता : सावन हरे पत्तों वाला

5-शशिलेन्द्र कुमार गुप्ता : बदला हुआ सावन

6- शकुंतला करनानी : यादें कोरोना काल की

7- अनिल मोदी : सावन रिमझिम

8- पूजा पाराशर : मिलने को तरसते हैं

9- पमिता खिचा : सावन में साजन

10- मीत सिंह : ऐ दुनिया वालों मुझसे नफरत ना करो

11- रेखा सुमन : सावन की बूंदें

12- डॉली : बारिश और सावन

13- रविता भाटिया : हरियाली सावन में

14- सरिता सरगम : सावन का गीत

15- रोचिका अरुण शर्मा : जीवन पोथी

16- गुडिया चौधरी : सावन ॠतु रसराज

17- रेखा राय : राधा कृष्ण का झूला

18- रेखा चौहान : वीरा की थाली

19- सरोज सिंह : सावन के रंग

20- मंजु रूसतगी : देख सखी सावन आयो

21- शोभा चोरड़िया : बादल

22- सरला सिंह : आया सावन झूम के..

23- हर्षलता :  कोरोना का  सावन

Leave A Reply

Your email address will not be published.