जनविरोधी अध्यादेश को निरस्त करें राज्य सरकार : भाजपा

0
  • राज्यपाल को पत्र लिखकर कहा, अंग्रेज शासन की याद दिलाता है यह अध्यादेश

दैनिक झारखंड न्‍यूज

रांची । भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद दीपक प्रकाश और पार्टी विधायक दल के नेता पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने संयुक्त रूप से राज्यपाल को पत्र लिखा है। इसमें मास्क नहीं लगाने पर एक लाख रुपये जुर्माना या दो साल की सजा से संबंधित अध्यादेश को निरस्त करने के लिए राज्य सरकार को निर्देशित करने का अनुरोध किया है। पत्र ई मेल से भेजा गया है।

नेताद्वय ने कहा कि यह जनविरोधी, गरीब, मजदूर विरोधी अध्यादेश हैं। राज्य की जनता स्वयं कोरोना संक्रमण से परेशान है। इस बीच यह अध्यादेश जनता की परेशानियों को और अधिक बढ़ानेवाला है।

बेहतर होता कि सवा तीन करोड़ जनता को मास्क के लिये दबाव नहीं बनाकर स्वयं से बनाये हुए फेस कवर अथवा गमछा, तौलिया, रुमाल से चेहरे को ढंककर बाहर निकलने के लिये प्रेरित किया जाता। राज्य में लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर कामगर बाहर से लौटे हैं, जिनके सामने भरण पोषण के लिये रोजगार की समस्या है। सरकार रोजगार उपलब्ध नहीं करा रही है, जिसके कारण ये रोजी रोटी के लिये चिंतित हैं।

नेताओं ने कहा कि मजदूरों की इन मजबूरियों का फायदा उठाने के लिये प्रदेश में नक्सली संगठन सक्रिय है। ऐसे संगठन इन्हें पैसे का प्रलोभन देकर संगठन से जोड़ने का प्रयास कर रहे हैं। जिस प्रकार से कोरोना महामारी विकराल रूप धारण करता जा रहा है, ऐसे में सरकार को राज्य में समुचित इलाज की व्यवस्था पर जोर देना चाहिये। ना कि अंग्रेजी हुकूमत की तरह कठोर कानून बनाकर जनता को और अधिक परेशान करने पर। आज गरीब, मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराना प्राथमिकता में होना चाहिये था, जिस ओर सरकार का कोई ध्यान नहीं है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.