एसडीओ ने किया कोचिंग संस्‍थानों में फायर सेफ्टी की जांच की, मिला यह सब

0

दैनिक झारखंड न्‍यूज

रांची । राजधान रांची के सदर अनुमंडल पदाधिकारी गरिमा सिंह ने विभिन्न कोचिंग संस्थानों में औचक निरीक्षण किया। फायर संबंधित फायर सेफ्टी का जांच की। सभी कोचिंग संस्थान में फायर सेफ्टी नहीं के बराबर पाया गया या एक्सपायरी डेट का मिला। सभी कोचिंग संस्थान में हायर संबंधित नोटिस निर्गत किया जाएगा। उसके बाद कार्रवाई की जाएगी।

झारखंड पैरेंटस एसोसियेशन के अध्‍यक्ष अजय राय ने कहा कि सूरत की दिल दहलाने वाली घटना के बाद पूरे देश में इस घटना की निंदा हो रही है। इस घटना के लिए कोचिंग संस्थान को दोषी ठहराया है। फायर सिस्टम नहीं होने के कारण इतनी बड़ी घटना घटी है। कोचिंग सेंटरों की कोई सरकारी संस्था निगरानी तक नहीं करती। इसलिए यह शिक्षा के नाम पर लोगों को लुटने का एक सुरक्षित तरीका है।

अजय राय

श्री राय ने कहा कि केन्द्र सरकार ने वर्ष 2014 में उच्चत्तम न्यायालय में कहा था कि राज्य सरकार को ऐसे संस्थाओं पर कार्रवाई करनी चाहिए, जो उनके राज्य में बिना मान्यता चल रहे है। हालांकि उच्चत्तम न्यायालय ने वर्ष 2017 में केन्द्र सरकार को कोचिंग सेंटरों के लिये रेग्युलेशन या दिशा-निर्दश बनाने के लिए निर्देशित किया गया था, जो आज तक नहीं बन पाया है।

झारखंड पैरंट्स एसोसिएशन ने सूरत की घटना पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए मृतकों के  परिवार के प्रति शोक संवेदना जताई है। उन्‍होंने कहा कि जिला प्रशासन और राज्य सरकार को कोचिंग सेंटरो के संबंध में गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता है, क्योंकि कोचिंग सेंटरो पर नियंतत्र करने वाली कोई सरकारी ऐजंसी नही है। कम से कम उच्चत्तम न्यायालय के आदेश का पालन कर इनकों रेसिडेंसियल क्षेत्रों से हटाया जाना चाहिए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.