कृषि सचिव से मिले झारखंड प्रादेशिक गोशाला संघ के सदस्य

0
  • गौ सेवा आयोग के कार्यालय में सचिव और रजिस्टार की नियुक्ति का अनुरोध

दैनिक झारखंड न्‍यूज

रांची । राज्य में गौ सेवा आयोग का गठन गोवंश के संरक्षण व संवर्धन के लिए किया गया है। आयोग द्वारा राज्य की अनुबंधित गौशालाओं को आधारभूत संरचना के लिए आवंटित राशि विभाग द्वारा दी जाती रही है। साथ ही, सरकार द्वारा राज्य में पकड़े गए गोवंशो को स्थानीय गौशालाओं को पोषण के लिए दिया जाता है।

पकड़े गये  गोवंश की खुराकी के लिए आयोग से प्रति गोवंश 50 रुपये 6 महीने की राशि दो किस्तों में दी जाती रही है। विगत 1 सालों से भी अधिक राज्य की कई गौशालाओं की राशि आयोग से गोवंशो की खुराकी के मद में प्राप्त नहीं हुई है। आयोग में कई गौशालाओ की लाखों रुपये की राशि बाकी है। कोविड-19 महामारी की वजह से राज्य की कई गौशालाओं की स्थिति दयनीय बनी हुई है।

झारखंड प्रादेशिक गौशाला संघ के पूर्व अध्यक्ष शत्रुघ्न लाल गुप्ता ने कृषि व पशुपालन सचिव अबु बकर सिद्दीख पी भेंट कर यह बातें बताई। उन्‍होंने गौ सेवा आयोग में सचिव एवं रजिस्ट्रार की नियुक्ति का अनुरोध किया। जानकारी दी कि गौ सेवा आयोग के सचिव एवं रजिस्टर सेवानिवृत हो चुके हैं। इसकी वजह से आयोग से होने वाले भुगतान गौशालाओ को नहीं हो सकते है।

श्री गुप्ता ने प्रादेशिक गोशाला संघ द्वारा ज्ञापन देकर सचिव से आग्रह किया कि जल्द से जल्द दोनों रिक्त पदों पर नियुक्ति की जाए, जिससे गौशालाओं को आर्थिक सहयोग प्रदान हो सके। सचिव ने आश्वासन दिया कि विभाग द्वारा जल्द से जल्द नियुक्ति की कार्रवाई की जाएगी। ज्ञापन देने में प्रादेशिक गोशाला संघ के संयुक्त सचिव प्रमोद सारस्वत और रांची गोशाला के ट्रस्टी ओम प्रकाश छापड़िया मौजूद थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.