प्रखंड स्तर तक सर्वदलीय कमेटी का गठन कर जागरुकता अभियान चलाए सरकार

0

दैनिक झारखंड न्‍यूज

रांची । झारखंड में कोविड महामारी से रिकवरी की दर बेहतर दिख रही थी। अब संक्रमण की संख्या में हो रही बढोत्‍तरी चिंता का विषय है। कोरोना से निपटने में लगे डाक्टरों, हेल्थ  वर्करों और सफाईकर्मियों के बीच संक्रमण का खतरा जाहिर है। हालांकि अन्य लोगों के संक्रमित होने की घटनाओं में वृद्धि होने का कारण स्वास्थ्य मंत्रालय की एडवाइजरी का गंभीरता से पालन नहीं होना है।

माकपा ने राज्य सरकार से मांग की है कि कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए शारीरिक दूरी और मास्क का उपयोग करने के प्रति पूरी सख्ती बरती जाए। बड़े पैमाने पर जागरुकता अभियान चलाया जाए। पार्टी के राज्‍य सचिव मंडल के सदस्‍य प्रकाश विप्‍लव ने कहा कि इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री द्वारा बुलायी गयी सर्वदलीय बैठक में कुछ ठोस सुझाव दिया था।

पार्टी ने कहा था कि प्रखंड स्तर तक सर्वदलीय कमेटियों का गठन कर जागरुकता अभियान को सफल बनाने के लिए विभिन्न जन संगठनों, सामाजिक संगठनों और ट्रेड यूनियनों से वालंटियरों का चयन किया जाय। इन्हें महामारी की रोकथाम से संबंधित दो दिन का प्रशिक्षण देकर जागरुकता अभियान के काम में लगाया जाय, जैसा कि केरल में किया गया। इसके सकारात्मक परिणाम आयेंगे, लेकिन राज्य सरकार केवल प्रशासनिक मशीनरी के सहारे ही कोरोना से निपटने की योजना बना रही है।

इसलिए सीपीएम मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से आग्रह करता है कि आज होने जा रही मंत्रिपरिषद की बैठक मे इस सुझाव पर चर्चा कर इसके कार्यान्वयन के लिए उचित कदम उठाएं, क्योंकि इस संकट से निपटने के लिए प्रभावी जनसहयोग की जरूरत है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.