दशलक्षण कार्यक्रम कल से, फेसबुक पर होगा प्रसारण, सामूहिक कार्यक्रम पर रोक

0

दैनिक झारखंड न्‍यूज

रांची । जैन धर्म का दशलक्षण पर्व 23 अगस्त, 20 से प्रारंभ हो रहा है। यह 1 सितंबर, 20 तक चलेगा। रांची शहर में कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को ध्यान में रखकर एवं मंदिरों की शुचिता, पवित्रता बनाए रखने की दृष्टि से दोनों जिनालय में दर्शन पर प्रतिबंध जारी रखा गया है।

दशलक्षण जैन धर्म का तप, त्याग, संयम का सबसे बड़ा पर्व है। सभी की धार्मिक भावनाओं को ध्यान में रखते हुए और सरकारी नियमों को पालन करते हुए बाहर ग्रिल गेट से देव दर्शन की उपलब्ध सुविधा को बढ़ा दी गई है। प्रातः 5 से दिन 1 बजे तक और दोपहर 3 बजे से रात 8 बजे तक कर दिया गया है।

सिर्फ कलश और शांति धारा के दौरान प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक फाटक बंद रहने के कारण दर्शन उपलब्ध नहीं होंगे। दोनों मंदिर में कलश और शांति धारा प्रातः 6.30 बजे से होगी। श्री दिगंबर जैन मंदिर अपर बाजार की कलश और शांतिधारा का प्रसारण Facebook live https://www.facebook.com/digambarjainsamajranchi/ पर अरविंद शास्त्री के मुखारबिंद से होगा।

कलश एवं शांति धारा का लाभ पूर्ववत व्रतधारियों एवं प्रतिमा धारियों को ही प्राप्त होगा। दशलक्षण पूजन विधान प्रातः 7 बजे से अरविंद जी शास्त्री के मार्ग दर्शन में प्रतिदिन संपन्न होगा। संध्या आरती हर रोज शाम 7 बजे की जाएगी। इसका प्रसारण का प्रयास किया जाएगा। सोलह कारण, दशलक्षण व्रतधारी, तेला व्रतधारी को मंदिर में प्रवेश के लिए  अध्यक्ष या मंत्री से पूर्व मेंअनुमति लेनी होगी।

अध्‍यक्ष उम्मेदमल काला, मंत्री कमल विनायक्या और कोषाध्‍यक्ष महेंद्र कुमार जैन ने बताया कि कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप एवं सरकारी दिशा निर्देश के अनुसार दशलक्षण संबंधित समाज द्वारा आयोजित सभी सामूहिक आयोजन नहीं होंगे। सामूहिक पूजन, विधान, सुगंध दशमी के दिन धूप खेने का कार्यक्रम, व्रतधारियों के लिए विनती का कार्यक्रम, अनंत चतुर्दशी के दिन शोभायात्रा एवं श्री जी के कलशाभिषेक, व्रतियों का पारणा एवं सामाजिक अभिनंदन, सामूहिक प्रीतिभोज आदि कार्यक्रम का आयोजन नहीं किये जाएंगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.