देश की नौ नदियों में शामिल होगी दामोदर और स्वर्णरेखा भी

0

दैनिक झारखंड न्‍यूज

रांची । देश की नौ नदियों में झारखंड की दामोदर और स्‍वर्णरेखा नदी भी शामिल होगी। केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावेडकर से इसपर सहमति जताई है। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने गुरुवार को दिल्ली स्थित शास्त्री भवन में उनसे मुलाकात की। बैठक में केन्द्र और राज्य के आला अधिकारियों ने भाग लिया। श्री जावेडकर ने कहा कि झारखंड में हो रहे विकास कार्यों की सफलता ने पूरे देश का ध्यान उसकी की ओर आकृष्ट किया है।

झारखंड को कैंपा फंड के तहत 4046.19 करोड़ रुपये : वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा झारखंड को कैंपा फंड के तहत 4046.19 करोड़ रुपये का हस्तांतरण जल्द किये जाने का निदेश केंद्रीय मंत्री ने दिये। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस फंड से कैम्पा योजना के माध्यम से होने कार्यों को गति प्रदान की जाएगी।

दामोदर और स्वर्ण रेखा को भी शामिल करने पर सहमति : मुख्यमंत्री ने बैठक में केंद्रीय मंत्री से कहा कि देश की 9 नदियों में दामोदर और स्वर्ण रेखा को भी शामिल किया जाए, ताकि इन नदियों के केचमेंट एरिया का समग्र विकास किया जा सक। केंद्रीय वन मंत्री ने इस पर अपनी सहमति दी है। उन्होंने कहा कि जल्द ही इस दिशा में सारी प्रक्रिया पूरी की जाएगी।

कई प्रसताव रखें : मुख्यमंत्री ने इसके अलावा वन विभाग से संबंधित कई प्रस्ताव रखें, जिन पर गंभीरता से चर्चा हुई। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि राज्य हित में एक टाइमलाइन के तहत इस पर जल्द फैसला लिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि फॉरेस्ट क्लीयरेंस के लिए जो ऑनलाइन प्रस्ताव दिए जाते हैं, उनमें कुछ सुधार की आवश्यकता है, ताकि संपूर्ण जानकारी एक साथ ही प्रेषित की जा सके। उसका निष्पादन एक निश्चित समय सीमा में हो सके। केंद्रीय मंत्री ने इस पर भी अधिकारियों से विचार कर राज्यों के हित में सकारात्मक निर्णय लेने का भरोसा दिलाया।

जल, जंगल, जमीन और जलवायु हमारी अमानत : मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में एक माह तक पौधारोपण अभियान चल रहा है। राज्य की 44 नदियों के 64 कैचमेंट एरिया में पौधरोपण हो रहा है। इस कार्य में सभी लोग अपना योगदान दे रहे हैं। क्योंकि जल, जंगल, जमीन और जलवायु हमारे लिए नारा नहीं, बल्कि हमारी अमानत और विरासत है। आनेवाली पीढ़ी के जीवन को सुखमय बनाना सरकार का उद्देश्य है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.