मुख्यमंत्री ने शीश नवाकर प्रभु जगन्नाथ से राज्य की समृद्धि और खुशहाली का मांगा आशीर्वाद

0

दैनिक झारखंड न्‍यूज

रांची । राज्य और देश सहित पूरी दुनिया कोरोना संक्रमण से प्रभावित है। ऐसी स्थिति में भारी मन से सदियों से चली आ रही प्रभु जगन्नाथ के रथयात्रा कार्यक्रम को स्थगित करने का निर्णय लेना पड़ा है। ऐसे तो पिछले कुछ महीनों में कई त्योहार आए और चले गए। सभी वर्ग के लोगों ने लॉकडाउन की इस घड़ी में त्योहारों के समय लिए गए निर्णय पर भावनात्मक सहयोग देते हुए समाज के साथ खड़ा रहने का काम कर दिखाया है। ये बातें मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कही। वे 23 जून को रथयात्रा के अवसर पर जगन्नाथपुर स्थित भगवान जगन्नाथ मंदिर में पूजा करने के बाद प्रेस से बात कर रहे थे।

झारखंड संक्रमण से बाहर निकलने की राह पर

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज का दिन पूरे देश के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है। अपने-अपने आस्था के अनुरूप लोग भगवान जगन्नाथ के रथयात्रा में शामिल होते रहे हैं। परंतु इस वर्ष रथयात्रा कार्यक्रम नहीं हो पाया है, इसके लिए मैंने शीश झुकाकर प्रभु से क्षमा मांगी है। हम सभी प्रभु जगन्नाथ से यह प्रार्थना करते हैं कि राज्य, देश सहित पूरे विश्व में संक्रमण से बाहर निकलने के लिए जो उपाय किए जा रहे हैं। वह कारगर साबित हो। झारखंडवासियों के दृढ़ निश्चय और सजगता से जल्द ही राज्य संक्रमण से बाहर निकलने की राह पर है। भगवान जगन्नाथ के आशीर्वाद से राज्य में शांति का माहौल है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के वरीय आप्त सचिव सुनील कुमार श्रीवास्तव, मुख्यमंत्री के प्रेस सलाहकार अभिषेक प्रसाद एवं मुख्यमंत्री के परिवार के अन्य सदस्य उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.