उद्योगपति और जेबीवीएनएल के पूर्व अध्‍यक्ष की मिलीभगत की सीबीआई जांच हो : मेहता

0

दैनिक झारखंड न्‍यूज

रांची । भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी राज्य कार्यालय में धरना के माध्यम से भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव भुवनेश्वर प्रसाद मेहता ने कहा कि झारखंड जब से बना है, तब से सबसे ज्यादा भारतीय जनता पार्टी के लोगों ने राज किया है। झारखंड को लूटखंड बनाया गया। रघुवर सरकार के संरक्षण में पूर्व के ऊर्जा सचिव के रिश्तेदार जेबीवीएनएल के पूर्व अध्यक्ष अरविंद प्रसाद और रामगढ़ के बिहार फाउंडरी के मालिक गौरव बुधिया की सांठगांठ से सरकार को करोड़ों की चपत लगी। अरविंद प्रसाद को प्रत्येक वर्ष बिजली के टैरिफ कम करने के लिए करोड़ों रुपए दिए जाते थे। इसका पर्दाफाश होने पर अरविंद प्रसाद अध्यक्ष ने पद से इस्तीफा दे दिया। उद्योगपति गौरव बुधिया अपने बचने के लिए हर हथकंडे को अपनाना शुरू कर दिये।

श्री मेहता ने कहा कि उन्होंने अपनी सफाई भी देना मुनासिब नहीं समझा। दोनों की सांठगांठ से रामगढ़ के कई कारखाने बंद हो चुके हैं। टैरिफ के मामले में अरविंद प्रसाद डीवीसी का रेट सबसे कम, उसके बाद टाटा, झारखंड सरकार का रेट सबसे ज्यादा रखते थे। डीवीसी के उपभोक्ता उद्योगपतियों से रुपए की वसूली कर डीवीसी का रेट कम करने के लिए प्रत्येक वर्ष करोड़ों रुपए का लेनदेन होता था। आज जिन उद्योगपतियों के कल कारखानों के लिए झारखंड सरकार की बिजली का कनेक्शन लिया है, यह दोनों की मिलीभगत से बंदी के कगार पर है। कई कारखाने बंद हो चुके हैं।

धरना के माध्यम से राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को मांग पत्र सुपुर्द करते हुए श्री मेहता ने सीबीआई जांच कराने की मांग की है। उन्होंने कहा कि उक्त मामलों की जांच स्वच्छ एजेंसी से हो जाए, तो करोड़ों रुपए के घोटाला सामने आएंगे। जिनके पास एसटी कनेक्शन है, उनके पास 25 हजार करोड़ रुपए बकाया होने के बावजूद उन्हें डीवीसी का कनेक्शन दिया गया है। इससे राज्य के राजस्व को चुना लगाया जा रहा है।

झारखंड सरकार की बिजली से कनेक्शन लेने वाले कल कारखानों पर बुरा असर पड़ रहा है। कोविड-19 कोरोना महामारी के कारण राज्य के दूसरे जगहों पर काम करने गए मजदूरों का आगमन झारखंड हो गया है। जब रोजी-रोटी की समस्या पैदा हो रही है। दोनों की सांठगांठ से कल कारखाने बंद हो रहे हैं। रोजगार के अवसर भी समाप्त हो रहे हैं। ऐसी परिस्थिति में सरकार अविलंब सीबीआई जांच के आदेश दे। अरविंद प्रसाद और गौरव बुधिया को जेल भेजा जाय।

धरना प्रदर्शन में राष्ट्रीय परिषद के सदस्य सह राज्य के सहायक सचिव महेन्द्र पाठक, ऑल इंडिया यूथ फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष आफताब आलम खान, रांची जि‍ला सचिव अजय सिंह, चंद्रशेखर झा, उमेश नजीर, मनोज ठाकुर, महीप पासवान, शराफत हुसैन, फरजाना फारूकी, प्रि‍या परवीण सहित अन्‍य मौजूद थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.