मानसून अवधि में बालू के खनन पर रोक, केवल भंडारण से ही होगा उठाव

0
  • 10 जून 2020 से 15 अक्टूबर 2020 तक आदेश प्रभावी

दैनिक झाखंड न्‍यूज

रांची । मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बालू उठाव एवं प्रेषण के मामले में न्यायालय एनजीटी के आदेश को शत प्रतिशत लागू करने का निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि खान एवं भूतत्व विभाग सभी  जिलों के उपायुक्तों के माध्यम से यह सुनिश्चित करे कि एनजीटी द्वारा मानसून अवधि में (10 जून 2020 से 15 अक्टूबर 2020) तक बालू के खनन पर लगाई गई रोक का पालन हो।

इस संबंध में खान एवं भूतत्व विभाग में सभी उपायुक्तों को पत्र लिखते हुए यह निर्देश दिया है कि सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में बालू की आवश्यकता एवं महामारी फैलने के कारण मजदूरों के सामने रोजगार की समस्या को दृष्टिगत रखते हुए भंडारण से ही बालू का उठाव करना है। इसके लिए सभी जिला खनन पदाधिकारी 10 जून 2020 के पूर्व के बालू के भंडारण का सत्यापन करें, इस हिसाब से ही परमिट एवं चालान निर्गत करने की अनुमति दें।

विभाग ने कहा है कि भंडारण स्थल से बालू का परिवहन मात्र ट्रैक्टर से किया जाए। बड़े वाहनों जैसे हाइवा, डम्फर आदि का उपयोग नहीं किया जाए। उक्त कार्य स्थल पर मजदूरों की मजदूरी का भुगतान सरकार द्वारा तय दर पर ही हो, यह सुनिश्चित करें। भंडारण स्थल से बालू के स्टॉक का निरीक्षण समय-समय पर किया जाए। भंडारण स्थल से बालू की बिक्री/ आपूर्ति में सरकारी योजनाओं में आवश्यकता को प्राथमिकता दी जाए।

विदित हो कि राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण कोलकाता द्वारा पारित आदेश के आलोक में राज्य अंतर्गत बालू घाटों से बालू का उठाव वर्षा ऋतु के समय किसी भी परिस्थिति में नही किया जाना है। हालांकि खान विभाग को उक्त अवधि में बालू का अवैध उठाव खनन कर्ताओं, बालू माफियाओं द्वारा किए जाने की सूचना प्राप्त हो रही थी। सभी उपायुक्त यह सुनिश्चित करें कि एनजीटी के आदेश का शत-प्रतिशत पालन हर परिस्थिति में सुनिश्चित किया जाए। अवैध बालू का उत्खनन का मामला सामने आने पर दंडात्मक कार्रवाई किया जाए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.