मल्‍टीनेशनल कंपनी की नौकरी छोड़कर पशुपालन को बनाया कैरियर

0
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए गीर गाय के दूध की बढ़ी मांग

दैनिक झारखंड न्‍यूज

रांची । मौजूदा कोरोना काल में हर व्‍यक्ति शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए तरह-तरह के नुस्खे अपना रहा है। ऐसे में झारखंड की राजधानी रांची के लालगुटवा स्थित गीर गाय डेरी फॉर्म इन दिनों सुर्खियों में है। यहां लोग गीर गाय का दूध लेने के लिए दूर-दूर से आ रहे हैं। गीर गाय डेयरी का संचालन मल्‍टीनेशनल कंपनी की नौकरी छोड़कर एक युवा कर रहा है। उसने पशुपालन को कैरियर बनाया है।

कोरोना काल में हर किसी को अपने स्वास्थ्य की चिंता है। शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए लोग तरह-तरह के नुस्खे भी अपना रहे हैं। गीर गाय का दूध इम्यूनिटी बूस्टर माना जाता है, जिसकी आजकल जबरदस्त मांग है। उच्च शिक्षा प्राप्त युवा पशुपालक लाल कुशवाहा ध्वज नाथ शाहदेव ने मल्टीनेशनल कंपनी की नौकरी छोड़ रांची में ऑर्गेनिक दूध A2 मिल्क उत्पादन की शुरुआत की है। वे गीर गाय डेयरी का संचालन कर रहे हैं।

इस डेयरी फार्म में हर तरह की लगभग 200 गाय हैं। श्री शाहदेव खुद गाय के रखरखाव और खानपान पर विशेष ध्यान देते हैं। वे बताते हैं कि गाय के चारे के लिए वह ऑर्गेनिक खेती भी कर रहे हैं। गाय के दूध को सर्वोत्तम और संपूर्ण आहार माना जाता है। इसमें मनुष्य के शरीर के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्व एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता होती है, बशर्ते की दूध सही हो। इसके लिए स्वदेशी नस्ल की गाय गीर के दूध को सर्वोत्तम माना गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.