प्रशासन की दबिश का असर नहीं, बेखौफ होकर धंधा कर रहे बालू माफिया

0

आनंद कुमार सोनी

लोहरदगा । लगातार प्रशासन की दबिश के बाद भी बालू माफिया अपना कारोबार बेखौफ जारी रखे हुए हैं। जिले में कई जगहों पर अब भी बालू का अवैध उठाव जोरों से हो रहा है। ट्रैक्टर की आवाजाही भी अफसरों के नाम के नीचे हो रही है। इससे सरकार को हर दिन लाखों रुपये के राजस्व का नुकसान हो रहा है।

जिले के सेन्हा अंचल क्षेत्र के जोगना पुल के नीचे से लगातार बालू का अवैध उठाव हो रहा है। विगत दिनों माफियाओं द्वारा चोरी कर बालू ले जा रहे ट्रैक्टेरों को पकड़ा गया था। इसके बाद भी प्रखंड मुख्यालय से महज 500 मीटर की दूरी पर आदिवासी मुहल्ला, धोबी मुहल्ला एवं हरिजन मुहल्ला से होकर बालू के अवैध ट्रैक्टर गुजर रहे हैं। इस सड़क पर सुबह से रात 2 बजे तक ट्रैक्टरों से बेखौफ अवैध बालू की ढुलाई होती है। मुख्यालय समीप होते हुए भी ट्रैक्टर के मालिकों को तनिक भी भय नहीं लगता है। यह प्रशासन की मिलीभगत की ओर इशारा करते हैं।

एक ट्रैक्टर की कीमत 1500 सौ 2000 के बीच

सेन्हा बस्ती के अंदर किसी भी स्थान पर बालू गिराने पर 15 सौ से 2 हजार रुपये तक लिया जा रहा है। दूसरे गांव पहुंचाने पर 25 सौ रुपया लिया जाता है।

किसी ट्रैक्टर में नंबर नहीं

जितने भी ट्रैक्टर अवैध बालू के उठाव में लगे हुए हैं, उसमें से किसी में ट्रॉली नंबर या इंजन का रजिस्ट्रेशन नंबर अंकित नहीं रहता है।

सरकार को लाखों का नुकसान

कोरोना को लेकर हुए लॉकडाउन के कारण सरकार का खजाना खाली हो गया है। इसकी भरपाई के लिए सरकार प्रयारत है। वहीं, बालू माफिया सरकार को राजस्व नुकसान पहुंचाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.