कोरोना के बढ़ते मामले से संशय में लोग, जल्‍द हो सकता है लॉकडाउन

0

आनंद कुमार सोनी

लोहरदगा । जिले में लॉकडाउन का निर्णय जल्‍द लिया जा सकता है। लगातार संक्रमित मरीजों का मामला सामने आते जाने के बाद प्रशासनिक हलकों में इस बात पर चर्चा की जा रही है। इसका संकेत भी वरिष्‍ठ अधिकारियों ने दिया है। एक-दो दिनों में इसपर ठोस निर्णय होने की संभावना है। मरीजों की संख्‍या में वृद्धि होने से लोग संशय में हैं। विगत 24 घंटे में कोरोना के 25 मरीज सामने आए हैं। शहरी क्षेत्र में अचानक कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में हुई बढ़ोत्‍तरी ने स्वास्थ्य विभाग की चिता बढ़ा दी है। विभाग के अनुसार वर्तमान में जिले में 77 एक्टिव केस हैं। इलाज के बाद ठीक हो चुके 58 लोगों को डिस्‍चार्ज किया जा चुका है।

चारों ओर घनी आबादी

लोगों का कहना है कि शहर से सटे चारों ओर घनी आबादी वाली गांव है। अब कोरोना शहर से गांव की ओर फैलना शुरू हो गया है। ऐसे में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। समय रहते जिले में लॉक डाउन नहीं करने पर आने वाले एक दो सप्ताह में जिले का मंजर कुछ अलग ही देखने को मिलेगा।

कोविड सेंटर भरा

रविवार को उपायुक्‍त की अध्‍यक्षता में हुई बैठक में जिला नोडल पदाधिकारी डॉ शंभूनाथ चौधरी ने बताया कि सक्रिय मामलों का इलाज चल रहा है। वर्तमान में कार्यरत कल्याण विभाग छात्रावास और चिरी में कोविड-19 सेंटर पूरी तरह से भरा हुआ है। स्वास्थ्य विभाग के निर्देश के आलोक में संक्रमित व्यक्ति की संख्या के 3 गुना व्यक्तियों के आवासन के लिए कोविड-केयर सेंटर में बेड की व्यवस्था की जानी है। अब मरीजों को रखने के लिए नई जगहों की तलाश हो रही है।

सीएस भी जद में

लोगों का कहना है कि मरीजों का इलाज करने वाले संक्रमित हो रहे हैं। सदर अस्‍पताल के सिवि‍ल सर्जन खुद कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। इसके बाद से सिविल सर्जन के सिस्टम क्‍वारंटाइन में है।

संगठन हैं पक्ष में

जिले के कई व्‍यापारिक और सामाजिक संगठन लॉकडाउन के पक्ष में हैं। झारखंड ट्रक ऑनर्स एसोसिएशन, लोहरदगा जिला चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज, सामाजिक विचार मंच सहित अन्‍य ने जिला प्रशासन से 15 दिन का लॉकडाउन लागू किये जाने की मांग की है। उनका कहना है कि कोरोना महामारी बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है। इस बीमारी के आगे की चेन को तोड़ने के लिए संपूर्ण नगर एवं ग्रामीण क्षेत्रों पर कम से कम 15 दिनों के लिए लॉकडाउन पुनः लगाना जरूरत है।

उपायुक्‍त सक्षम हैं

संगठन के लोगों का कहना है कि जिले में लॉकडाउन करने के लिए राज्‍य सरकार के अनुमति लेने की जरूरत नहीं है। जिले के उपायुक्‍त इस संदर्भ में निर्णय लेने के लिए खुद सक्षम हैं। हजारीबाग जिले में हालात बिगड़ने पर वहां के डीसी ने लॉकडाउन का आदेश जारी कर दिया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.