लोगों के लिए आफत बन गया नवनिर्मित रेलवे अंडरग्राउंड ब्रिज

0
  • संवेदक ने निर्माण कार्य अधूरा कर छोड़ दिया
  • कीचड़ और जलजमाव से आवागमन बाधित
  • जान जोखिम में रखकर पटरी पार कर रहे लोग

दैनिक झारखंड न्‍यूज

लातेहार । जिले के चंदवा टोरी रेलखंड के परसाही के समीप 212 एलएचएस नंबर अंडरग्राउंड ब्रिज लोगों के लिए आफत बन गया है। यहां कीचड़ और जलजमाव हो गया है। इससे करीब आधे दर्जन गांवों के ग्रामीणों को आने-जाने में कठि‍नाई हो रही है। ग्रामीणों के आग्रह पर माकपा के पूर्व जिला सचिव अयुब खान, पूर्व पंचायत समिति सदस्य फहमीदा बीवी ने स्थिति का जायजा लिया।

श्री खान ने कहा है कि ब्रिज का आधा अधूरा कार्य कर ठेकेदार ने छोड़ दिया है। अंडरपास ब्रिज की सड़क के आगे तक पीसीसी ढ़लाई नहीं कि‍या है। जल निकासी की कोई व्यवस्था नहीं है। इससे बरसात के कारण भारी समस्या उत्पन्न हो गयी है। रेलवे अंडरग्राउंड ब्रिज में पानी भरने से आवागमन बाधित हो गया है। बरसात से पूर्व इसे दुरुस्त नहीं कराकर रेलवे विभाग ने बड़ी लापरवाही की है। जब अंडरपास ब्रिज बना था, तब ग्रामीणों ने राहत की सांस ली थी। उस वक्त उन्होंने यह नहीं सोचा था कि रेलवे की लापरवाही के कारण बरसात में उन्हें इतनी परेशानीयों का सामना करना होगा।

स्‍थानीय लोगों ने बताया कि अंडरग्राउंड ब्रिज में पानी सोखने का कोई प्रबंध नहीं किया गया है। पानी निकालने के लिए एक नाली बनाया गया है, लेकिन वह अंडरपास सड़क से करीब चार फुट उपर है। लगातार हो रही बारिश से अंडरपास ब्रिज में पानी कीचड़ जमा रहने से अंडरपास ब्रिज की दीवारों में नमी आ गई है। इससे किसी बड़े रेल हादसे का भय लोगों में व्‍याप्‍त है।

रेलवे ने छह माह पहले इस ब्रिज का निर्माण कराया था। यह पथ इलाके के भंडारगढ़ा, महुआमिलान, मरमर, रक्शी, पिपराही, रोल, जमीरा, डुरू, देवनदिया, परसाही, पतराटोली, लोहसींगना और तुपी गांव को मिलता है। सैकड़ों लोगों का प्रत्येक दिन गांव से शहर आना-जाना इसी रास्ते से होता है। पैदल और साईकल से सफर करने वाले अंडरपास से नहीं जाकर उपर के रेल पटरी से पार कर आना जाना कर रहे हैं। दो और चार पहिया वाहन चालकों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। कई मोटरसाइकिल चालक पानी कीचड़ में गिरकर चोटिल हो चुके हैं।

स्‍थानीय लोगों ने बताया कि अंडर ब्रिज में करीब तीन फुट तक पानी जमा हुआ है। रेलवे प्रबंधन द्वारा अंडरब्रिज में भरे पानी की निकासी की अब तक कोई व्यवस्था नहीं कि‍या गया है, जिसके चलते रेलवे के प्रति रोष है। माकपा और वार्ड सदस्य राजु कुमार साव, ग्रामीण मुन्ना गंझु, गोपी गंझु, राकेश गंझु, प्रदीप गंझु, पिंटु गंझु, प्रदीप कुमार साव, प्रकाश साहु ने इस ओर ध्यान आकृष्ट कराते हुए उपायुक्त जिशान कमर और डीआरएम से इस समस्या से लोगों को तत्काल निजात दिलाने की मांग की है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.