सीएसआईआर-सीएमईआरआई और इंडो-डेनिश टूल रूम के बीच प्रौद्योगिकी साझेदारी के लिए हुआ MoU

0

दैनिक झारखंड न्‍यूज

जमशेदपुर । दुर्गापुर स्थित सीएसआईआर-सीएमईआरआई, दुर्गापुर और जमशेदपुर के इंडो-डेनिश टूल रूम, एमएसएमई मंत्रालय-प्रौद्योगिकी केंद्र ने 6 नवंबर, 2020 को प्रौद्योगिकी साझेदारी के लिए समझौता किया। सीएसआईआर-सीएमईआरआई के निदेशक प्रो (डॉ) हरीश हिरानी और टूल रूम के प्रबंध निदेशक आनंद दयाल की उपस्थिति में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये गये। इसमें मानव संसाधन के आदान-प्रदान, परिसंपत्तियों और सुविधाओं को साझा करने, प्रौद्योगिकियों के विपणन को बढ़ावा देने, युवाओं को प्रशिक्षित करने के लिए संयुक्त कार्यशालाओं का आयोजन करने, युवाओं के लिए नौकरी, उद्यमशीलता के अवसरों में सुधार करने और उद्योग के लिए आईओटी प्रयोगों के लिए कार्यशालाओं का आयोजन करने पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

प्रो (डॉ) हरीश हिरानी ने विश्वास जताया कि सीएसआईआर-सीएमईआरआई फार्म मशीनरी और एडिटिव मैन्युफैक्चरिंग के क्षेत्र से लेकर रोबोटिक्स और आईओटी आधारित प्रौद्योगिकियों के साथ ही उद्योग 4.0 के लिए भी लगातार काम कर रहा है। संस्थान ने हाल ही में नगरपालिका ठोस अपशिष्ट प्रबंधन तकनीकों का विकास किया है, जहां उत्पन्न कचरे का उपयोग अगरबत्ती निर्माण के लिए किया जाता है। प्रो हिरानी ने कहा कि सीएसआईआर-सीएमईआरआई आयात प्रतिस्थापन की दिशा में अपनी क्षमता के साथ काम कर रहा है। जब दो ऐसे संस्थान हाथ मिलाते हैं, तब इष्टतम क्षमता एक आत्मनिर्भर  भारत, यानी देश के समग्र विकास को बढ़ाएगी। उन्होने कौशल विकास कार्यक्रमों में पारस्परिक सहयोग की आवश्यकता पर जोर दिया, ताकि युवाओं में बेरोजगारी से उचित तरीके से निपटा जा सके। तकनीकी विकास को आगे बढ़ाया जा सके। हमें छोटी जगहों पर छोटी औद्योगिक इकाइयों की स्थापना करके उद्योगों में मौजूदा लॉजिस्टिक लागत को कम करने की आवश्यकता है।

आईडीटीआर के प्रबंध निदेशक आनंद दयाल ने कहा कि सीएसआईआर-सीएमईआरआई मैकेनिकल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में देश का सबसे अच्छा संस्थान होने के नाते कृषि मशीनरी, खिलौना उद्योग और धूप विनिर्माण क्लस्टर के क्षेत्र में महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी सहायता प्रदान करने में सक्षम होगा। सीएसआईआर-सीएमईआरआई के लिए प्रौद्योगिकी हस्तक्षेप के संभावित सबसे बड़े क्षेत्रों में, उद्योग 4.0 में अगली पीढ़ी की अवधारणाओं  के माध्यम जैसे कि योगात्मक विनिर्माण, 3D प्रिंटिंग (धातु और पॉलिमर), इंटरनेट-ऑफ-थिंग्स, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और अधिकतम स्वचालन में व्यक्त हो सकता है। आईडीटीआर और सीएसआईआर-सीएमईआरआईके बीच अधिकतम इंटरेक्शन के माध्यम से देश के दूरस्थ कोनों में ऑन-साइट स्किलिंग को समय के साथ सुगम बनाया जा सकता है।

आईडीटीआर द्वारा विकसित तीन उत्पादों ने ना केवल स्थानापन्न आयातों में मदद की है, बल्कि मौलिक रूप से इसकी लागत को भी कम किया है। AL-90 स्लाइड गेट्स उनमें से सबसे प्रमुख है। आईडीटीआर भी एमएसएमई को अपनी विनिर्माण क्षमता को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहित करने की योजना बना रहा है, ताकि वे समान रूप से निर्यात करने में सक्षम हों। आईडीटीआर की एक टीम जल्द ही सीएसआईआर-सीएमईआरआई का दौरा करने और विभिन्न उद्योग प्रतिमानों में इसकी तैनाती के संभावित संकेतों को समझने और तलाशने के लिए आएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.