एसबीआई बीसी ने बैठक कर बनाया संघ, सुमित अध्यक्ष और सुखसागर बनें सचिव

0

योगेश कुमार पांडेय

गिरि‍डीह । जिले में  भारतीय  स्टेट बैंक  द्वारा  संचालित  सीएसपी  संचालकों की बैठक 26 जुलाई को जमुआ प्रखंड क्षेत्र के पल्स टू उच्च विद्यालय चचघरा में हुई। इसमें संगठन का गठन और जिले में लगातार हो रही छिनतई पर चर्चा की गई। इसकी अध्यक्षता छोटकी खरगडीहा के सीएसपी जय प्रकाश वर्मा ने की।

सदस्‍यों ने कहा कि केंद्र  सरकार द्वारा 2014 में प्रधानमंत्री जन धन योजना का शुभारंभ करने के बाद सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों तक बैंकिंग सुविधा उपलब्ध कराने और हर परिवार  को बैंक से जोड़ने के लिए पंचायत स्तर पर केंद्र की स्थापना की गई। सीएसपी  संचालकों  द्वारा  लगातार जान जोखिम में डाल कर  बैंकिंग  सुविधा गांव-गांव तक पहुंचाने का कार्य  किया जा रहा है। इसके बाद भी कभी बैंक कर्मी, बीसी और प्रशासनिक पदाधिकारियों द्वारा संचालकों के साथ अमर्यादित भाषा का प्रयोग कर सीएसपी संचालकों को प्रताड़ित किया जाता है। इसका सभी सीएसपी ने विरोध करने का निर्णय लिया गया।

सीएसपी संचालकों पर बीसी द्वारा की जा रही मनमानी के खिलाफ आवाज बुलंद करने के लिए जिला कमेटी का गठन किया गया। सर्वसम्मति से सुमित कुमार यादव को अध्यक्ष, सुखसागर प्रसाद को सचिव, जय प्रकश वर्मा को कोषाध्यक्ष, अभिषेक कुमार को उप सचिव, संतोष कुमार मोदी को उपाध्यक्ष और रघुनंदन कुमार को मीडिया प्रभारी बनाया गया।

नवचयनित सचिव सुख सागर प्रसाद ने कहा कि शाखा प्रबंधक और बीसी द्वारा लगातार  सीएसपी संचालकों पर जीवन ज्योति बीमा योजना, सुरक्षा बीमा योजना और अटल पेंशन योजना के लिए दबाव बनाया जाता है। खाताधारक को काफी  समझाने के बाद भी बीमा नहीं कराते हैं। ऐसे में संचालक बैंक और बीसी के दबाव में आकर ग्राहक को बगैर जानकारी दिए सीएसपी बीमा करते हैं तो नहीं करें। ऐसा करने से सीएसपी का नाम बदनाम हो  जाता है। अगर  बैंक और बीसी द्वारा दबाब  बनाकर कार्य कराना चाहते हैं तो नहीं करें। अगर बीसी द्वारा किसी सीएसपी का कोड बंद किया जाता है तो जिले में  संचालित हर सीएसपी कार्य बंद कर दें, तभी सुधार संभव है। मौके पर सुनील मोदी, ब्रह्मदेव  कंधवे, अशुतोष कुमार समेत जिले के हर प्रखंडों से लगभग  पांच दर्जन सीएसपी  शामिल  थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.