नई शिक्षा नीति शैक्षणिक क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगी : केदार हाजरा

0
  • विधायक ने कॉलेज की चहारदीवारी निर्माण का किया शिलान्‍यास

दैनिक झारखंड न्‍यूज

गिरि‍डीह । जिले के जमुआ प्रखंड के लंगटा बाबा कॉलेज मिर्जागंज के इंटर और डिग्री शाखा के विकास कोष से चहारदीवारी बनाई जा रही है। इसका शिलान्यास प्राथमिक विद्यालय शानडीह के नजदीक जमीन पर स्‍थानीय विधायक केदार हाजरा ने 3 अगस्‍त को किया। डिग्री के प्राचार्य प्रो कमलनयन सिंह, इंटर के प्रभारी प्राचार्य निर्मल कुमार राय की उपस्थिति में कार्यक्रम हुआ। जनार्दन पाण्डेय ने पुजारी और सुरेन्द्र कुमार पाण्डेय ने पुरोहित की भूमिका निभायी। संचालन युवा समाजसेवी योगेश कुमार पाण्डेय ने किया।

इस अवसर पर विधायक ने कहा कि 34 वर्षों के बाद प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में बनी नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति से शिक्षा के क्षेत्र में परिवर्तन होगा। इसमें सभी प्रकार के पाठ्यक्रम और शिक्षा का सम्मिश्रण है, जिससे समय की बचत होगी। यह मील का पत्थर सिद्ध होगा। सभी नागरिकों को नई शिक्षा नीति का स्वागत करना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि कोरोना महामारी का दिन प्रति दिन विकराल रूप को देखते हुए प्रत्येक प्रखंड में क्‍वारंटाइन केंद्र की व्‍यवस्‍था राज्य सरकार को अबिलंब करनी चाहिए। राज्य सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है। केंद्र सरकार इस दिशा में बेहतर कार्य कर रही हैं।

विधायक ने शानडीह के ग्रामीणों की प्रशंसा करते हुए कहा कि जमीन का अतिक्रमण नहीं करना बेहद ही सम्मानीय कार्य है। डिग्री के प्राचार्य प्रो कमलनयन सिंह और इंटर के प्रभारी प्राचार्य निर्मल कुमार राय ने कहा कि कॉलेज की जमीन है। भवन के अभाव में पठन, पाठन सहित अन्य कार्यो में काफी परेशानी होती हैं। शानडीह, चकमन्जो में चाहरदीवारी और अतिरिक्त भवन का निर्माण हो जाने से सहूलियत होगी।

प्रो वरुण कुमार सिंह, प्रो चंद्रशेखर राय, प्रो अवधेश गोस्वामी, प्रो मो शमीम, प्रो अनिल कुमार देव, प्रो दिवाकर सिंह, प्रो अजय कुमार, प्रो किशोरी राय, प्रो ललन शर्मा, प्रो प्रदीप पाण्डेय, मो इंतख़्वाब आलम, प्रो जयप्रकाश सिंह, प्रो किशुन राणा, प्रो किशोरी साव, प्रो दिनेश पाण्डेय, प्रो नागेंद्र पासवान, प्रो बिनोद कुमार राय, प्रो एहसान आलम, इंद्रमणि सिंह, उमेश साव आदि ने कहा कि नया भवन निर्माण हो जाने से विद्यार्थियों को समुचित लाभ होगा। सभी के सहयोग की अपेक्षा है।

दो एकड़ आठ डिसमिल भूमि पर छोटन सिंह द्वारा दावा किया गया था। उनके पुत्र को नियोजित करने के आश्वासन के बाद जनहित में उन्‍होंने लिखित रूप से अपना दावा वापस ले लिया। प्राचार्य और विधायक को आवेदन सौंपा। इसपर सहानुभूतिपूर्वक विचार करते हुए शासी निकाय की बैठक में चर्चा करने की बात कही गई।

उक्त अवसर पर बीओआई जमुआ शाखा बीसी योगेश कुमार पाण्डेय, पीएलवी सुबोध कुमार साव, समाजसेवी बासुदेव यादव, छोटन कुमार साव, बालेश्वर तुरी, शिक्षक मैनेजर सिंह, रघुनाथ महतो,  द्वारिका रजक, गोवर्द्धन रजक, सिकन्दर कुमार, सुरेन्द्र यादव,वरुण राय, शंकर राय सहित ग्रामीण मौजूद थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.