सरकारी दावे के बाद भी धड़ल्ले से चल रहा है अवैध पत्थर का कारोबार

0

उपेंद्र गुप्‍ता

दुमका । सरकार के लाख दावे के बाद भी जिले के शिकारीपाड़ा प्रखंड में पत्थर का अवैध उत्खनन धड़ल्ले से चल रहा है। प्रशासनिक या पुलिस अधिकारी कहते हैं कि अवैध उत्खनन होने पर कार्रवाई की जाएगी। हालांकि धरातल पर उनकी कार्रवाई नहीं दिखती है। माफिया अपना काम जारी रखे हुए हैं।

जानकारी के मुताबिक शिकारीपाड़ा प्रखंड के निझोर, रनयपहाड़ी, सालबोना, मझलाडीह गांव में सैकड़ों की संख्या में अवैध पत्थर खदानें हैं। इसमें से कई खदान ऐसे भी हैं, जिनके खिलाफ कई बार अवैध उत्खनन का मामला शिकारीपाड़ा थाना में दर्ज हुआ है। इसके बाद भी धंधा बेरोक टोक जारी है। अवैध उत्खनन से एक ओर पत्थर माफिया मालामाल हो रहे हैं, दूसरी ओर सरकार को राजस्व को भारी नुकसान हो रहा है। पर्यावरण भी दूषित हो रहा है।

अवैध उत्‍खनन की जानकारी पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को है। वे छोटी-मोटी कार्रवाई करके अपना पल्‍ला झाड़ लेते हैं। इस अवैध कारोबार के बड़े माफिया पर अफसर हाथ डालने से कतराते हैं। जानकारी के मुताबिक इस अवैध कारोबार में दुमका, शिकारीपाड़ा ओर बंगाल के सीमावर्ती इलाके के माफिया शामिल हैं। पत्थर के अवैध उत्खनन के क्रम में गलत तरीके से विस्फोट कराया जाता है, जिसमे कई बार गरीब मजदूरों की जान भी चली जाती है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.