सावधान, नियमों का करें पालन, DL suspension के आंकड़ों में वृद्धि करने का है निर्देश

0
  • सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में उप विकास आयुक्त ने की समीक्षा

दैनिक झारखंड न्‍यूज

देवघर । सावधान रहें। नियमों का पालन करें। लापरवाही आप पर भारी पड़ सकती है। यातायात प्रभारी को वाहन जांच के दौरान हेलमेट और मास्क का उपयोग अनिवार्य रूप से कराने और DL suspension के आंकड़ों में वृद्धि करने के निर्देश दिये गये हैं। सड़क सुरक्षा समिति की 21 अगस्‍त को हुई बैठक में उप विकास आयुक्त (डीडीसी) शैलेंद्र कुमार लाल ने उक्‍त निर्देश दिये हैं।

डीडीसी ने कहा है कि प्रतिदिन वाहन जांच के लिए कैंप लगायें, ताकि बिना हेलमेट और मास्क पहनने वाले दो पहिया, बिना सीट बेल्ट एवं मास्क लगाकर चलने वाले चार पहिया वाहन चालकों पर विधिसम्मत कार्रवाई की जा सके। यातायात प्रभारी वाहन जांच के दौरान हेलमेट और मास्क का उपयोग अनिवार्य रूप से कराएं। DL suspension के आंकड़ों में वृद्धि करें।

डीडीसी ने पिछली बैठक में दिए गए निर्देश के आलोक में अब तक किये गए कार्यों की विस्तृत जानकारी ली। सड़क सुरक्षा से संबंधित नियम एवं कार्यो को बेहतर तरीके से लागू करने का आदेश संबधित अधिकारी को दिया। इस दौरान राष्ट्रीय उच्च पथ प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता ने बताया कि जिले में चिन्हित तीनों ब्लैक स्पॉट का टेंडर और एग्रीमेंट पूर्ण हो चुका है। Short Term Measures के तहत कार्य 25 सितंबर तक पूरा कर लिया जाएगा। इस पर उपविकास आयुक्त ने कहा कि सड़क सुरक्षा आज के समय में बड़ी चुनौती है। ऐसे में समय-समय पर सड़क सुरक्षा के प्रति जागरुकता अभियान चलाया जा रहा है, ताकि लोगों को सड़क सुरक्षा नियमों के प्रति जागरूक किया जा सके।

उप विकास आयुक्‍त ने आगे कहा कि अभी वैश्विक महामारी के समय में लगभग सभी स्कूल बंद हैं। ऐसे में विद्यालयों द्वारा Online classes के माध्यम से बच्चों को पढ़ाया जा रहा है। इसी कड़ी में Online के माध्यम से 8वीं, 9वीं, 10वीं और उच्च विद्यालय के छात्रों को सड़क सुरक्षा से संबंधित मुख्य बिंदुओं और नियमों के उल्लंघन पर दंड के भुगतान एवं सजा की जानकारी दी जाए। उन्होंने कहा कि दो पहिया वाहन चलाने वालों को हेलमेट पहनने के लिए जागरूक करने की जरूरत है। अभिभावकों को चाहिए कि वे 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को किसी भी परिस्थिति में वाहन नहीं चलाने दें। डीडीसी ने DPIU को आदेश दिया कि एक्सीडेंट रिकॉर्ड फॉर्म ससमय पर उपलब्ध नहीं होने के संदर्भ में सभी थानों को पत्राचार के माध्यम से पुनः स्मारित करें।

पथ प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता और नगर निगम के नगर प्रबंधक को आदेश दिया कि उनके द्वारा शहर एवं विभिन्न सड़कों का निरीक्षण कर सड़क सुरक्षा चिन्ह आदि से संबंधित साइनेज आदि की जांच करायी जाय। जरूरत के अनुसार इन चीजों को लगाया जाय। इस दौरान रोड सेफ्टी के रविश कुमार द्वारा बताया गया कि सड़क दुर्घटनाओं का आंकड़ा बढ़ रहा है, जिसमें over speeding के मामले ज्यादा देखे जा रहे हैं।

इस पर उप विकास आयुक्त ने कहा कि बिना गति मापन मशीन के इस बात की पुष्टि करना कठिन है कि दुर्घटना का कारण over speeding ही है। अतः जिले के मुख्य दुर्घटना क्षेत्र एवं चौक चौराहों के लिए रोड सिग्नल, speed gun, interceptor vehicle, CCTV आदि इलेक्ट्रॉनिक उपकरण का क्रय और लगाने के लिए पत्राचार कि‍या जाए, ताकि सड़क दुर्घटनाओं के कारण का पता लगाने में सटीकता आये। सड़क दुर्घटना में कमी हो सके।

बैठक में जिला जनसंपर्क पदाधिकारी, कार्यपालक अभियंता पथ प्रमण्डल, कार्यपालक अभियंता राष्ट्रीय उच्च पथ प्रमंडल, जिला शिक्षा पदाधिकारी, पुलिस उपाधीक्षक (यातायात), मोटरयान निरीक्षक, परिचारी प्रवर (यातायात प्रभारी) एवं रोड सेफ्टी के सदस्य आदि उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.