सुप्रीम कोर्ट और राज्य सरकार के आदेश पर खुला बाबा बैद्यनाथ मंद‍िर का पट

0
  • भादो मेला को लेकर राज्य सरकार के निर्देश पर खोला जाएगा मंदिर

दैनिक झारखंड न्‍यूज

देवघर । सुप्रीम कोर्ट और राज्य सरकार के आदेश पर 3 अगस्‍त, 2020 को सावन की पांचवी सोमवारी और पूर्णिमा पर बाबा बैद्यनाथ मंदिर का पट स्थानीय श्रद्धालुओं के लिए लिए खोला गया। सुबह 4.15 बजे बाबा मंदिर का पट खोले जाने के बाद सीमित संख्या में तीर्थ पुरोहितों के साथ सुबह 4.30 से 5.15 तक सरदार पंडा गुलाबनंद ओझा द्वारा चयनित छोटे लाल पंडा ने विधिवत बाबा बैद्यनाथ की पूजा अर्चना की। इसके बाद सीमित संख्या में स्थानीय श्रद्धालुओं के लिए पूर्वाहन 6.30 बजे से अपराह्न 2 बजे तक मंदिर का पट बाबा के दर्शन के लिए खोला गया। इस दौरान दंडाधिकारी और सुरक्षाकर्मियों द्वारा स्वास्थ्य संबंधी सभी मानकों के साथ-साथ सामाजिक दूरी का पालन कराते श्रद्धालुओं को बाबा बैद्यनाथ का दर्शन कराया गया।

स्वास्थ्य सुरक्षा के दृष्टिकोण से कोई भी तीर्थपुरोहित मंदिर के गर्भ गृह में उपस्थित नहीं थे। 301 श्रद्धालुओं ने बाबा बैद्यनाथ के दर्शन किये। संथाल परगना के पुलिस उपमहानिरीक्षक नरेन्द्र कुमार सिंह, उपायुक्त कमलेश्वर प्रसाद सिंह, पुलिस अधीक्षक पीयूष पांडे, बाबा मंदिर प्रभारी सह अनुमंडल पदाधिकारी विशाल सागर तड़के सुबह से ही बाबा मंदिर पहुंचे। सुरक्षा व्यवस्था और विधि-व्यवस्था का जायजा लेते हुए संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।

कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए विधि व्यवस्था एवं सुरक्षा व्यवस्था के दृष्टिकोण से मंदिर के आसपास के क्षेत्रों के अलावा मंदिर प्रांगण में दंडाधिकारी, पुलिस बल के जवान एवं मंदिर कर्मचारियों की प्रतिनियुक्ति की गई थी। इसके अलावे मंदिर प्रांगण में प्रवेश के दौरान सामाजिक दूरी का पालन कराते हुए श्रद्धालुओं को थर्मल स्कैनर से स्कैन करने के बाद मास्क का उपयोग कराते हुए एवं सेनेटाइजड करते हुए फुटओवर ब्रिज के माध्यम से बाबा मंदिर में प्रवेश कराया गया।

कल से पूर्व की तरह लागू रहेंगे नियम

बाबा मंदिर प्रभारी सह अनुमंडल पदाधिकारी विशाल सागर ने बताया कि राज्य में लागू लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए कल से पूर्व की तरह बाबा मंदिर आम श्रद्धालुओं के लिए बंद रहेगा। भादो माह में मंदिर खोलने को लेकर राज्य सरकार के निर्देश पर आगे की व्यवस्था शुरू की जाएगी। बाबा मंदिर में परंपरागत प्रातः एवं संध्या कालीन पूजा के दौरान सिर्फ तीर्थ पुरोहित ही सीमित संख्या में पूजा में सम्मिलित होंगें। सोशल डिस्टेंसिंग और स्वास्थ्य संबंधी अन्य मानकों का पालन सुनिश्चित करेंगें।

झारखंड उच्च न्यायालय और राज्य सरकार के आदेशा के अनुसार किसी भी स्थिति में उपरोक्त पूजा में महिला, बच्चों सहित किसी भी बाहरी व्यक्तियों का प्रवेश मंदिर के अंदर वर्जित रहेगा। प्रातः एवं संध्या कालीन पूजा में सिर्फ पूजा-पाठ करने वाले तीर्थपुरोहित हीं सीमित संख्या में सम्मिलित होंगे। इसके अलावे किसी भी अन्य व्यक्ति का मंदिर परिसर में प्रवेश निषिद्ध रहेगा।

इस मौके पर प्रशिक्षु आईएएस संदीप मीणा, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी विकास चंद्र श्रीवास्तव, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी रवि कुमार एवं संबंधित अधिकारी आदि उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.