Tata Steel की ’माइंड ओवर मैटर’ के विजेता बने BIT मेसरा के प्रणव पांडेय और प्रतिभा पटेल

0
  • बीआईटी सिंदरी से अदिति सिन्हा और सौम्यदीप सिंघा ने फर्स्ट रनर-अप
  • एनआईटी रायपुर के अनिरुद्ध रॉय और शिखर रंजन ने सेकेंड रनर-अप

दैनिक झारखंड न्‍यूज

मुंबई । टाटा स्टील ने इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों के लिए बहुप्रतीक्षित वार्षिक नवाचार चुनौती ‘माइंड ओवर मैटर’ सीजन-7 के विजेताओं की घोषणा की। बीआईटी मेसरा के प्रणव पांडेय और प्रतिभा पटेल ‘माइंड ओवर मैटर-2020’ के विजेता बनें। बीआईटी सिंदरी की अदिति सिन्हा और सौम्यदीप सिंघा की जोड़ी ने फर्स्ट रनर-अप का स्थान हासिल किया। एनआईटी रायपुर कॉलेज के अनिरुद्ध रॉय और शिखर रंजन ने सेकेंड रनर-अप का स्थान प्राप्त किया।

टाटा स्‍टील के वीपी (एचआरएम) सुरेश दत्त त्रिपाठी ने कहा कि माइंड ओवर मैटर की परिकल्पना और शुरुआत 2014 में की गई थी। इसका उद्देश्य प्रतिभाशाली युवा मस्तिष्क के साथ जुड़ना और उन्हें रिसर्च व इनोवेशन की क्षमता दिखाने के लिए एक मंच प्रदान करना था। टाटा स्टील आरएंडडी टीम की मेंटरशिप के तहत उनके आइडियाओं का प्रोटोटाइप बनाने के लिए प्रतिभागी टीमों को टाटा स्टील में आमंत्रित किया जाता है। टाटा स्टील युवा प्रतिभाओं के साथ जुड़ने के लिए ऐसे कार्यक्रमों के निर्माण में विश्वास करती है और उन्हें मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री से जुड़ने और भविष्य की संभावनाओं को सक्षम करने के लिए प्रेरित करती है।

महामारी के कारण पहली बार वर्चुअल प्लेटफॉर्म पर ग्रैंड फिनाले और पुरस्कार समारोह का आयोजन किया गया। समापन समारोह में 11 टीमों ने सम्मानित जूरी के समक्ष अपने अभिनव समाधान पेश किए। टाटा स्‍टील के वीपी (टेक्नोलॉजी ऐंड न्यू मैटेरियल बिजनेस) डॉ देबाशीष भट्टाचार्जी कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे। जूरी में डॉ भट्टाचार्जी के साथ विनय वी महाशब्दे, चीफ (आरएंडडी, एंड प्रोडक्ट टेक्नोलॉजी) और अक्षय खुल्लर (चीफ मैन्युफैक्चरिंग (लांग प्रोडक्ट) शामिल थे।

विजेता टीम को ट्रॉफी के साथ एक लाख रुपये की पुरस्कार राशि मिली। फर्स्ट रनर-अप और सेकेंड रनर-अप को क्रमशः 75 हजार और 50 हजार रुपये का नकद पुरस्कार दिया गया। शीर्ष तीन टीमों को ‘रिकॉगनिशन’ और प्री-प्लेसमेंट इंटरव्यू (पीपीआई) के प्रमाण पत्र प्रदान किए गए। हिस्सा लेने वाली अन्य टीमों को गुडी बैग के साथ भागीदारी के प्रमाण पत्र दिए गए।

इस वर्ष ‘माइंड ओवर मैटर’ में देश भर के 20 से अधिक प्रमुख संस्थानों से 500 से अधिक विद्यार्थियों की भागीदारी देखी गई। प्रतियोगिता में कंपनी की आरएंडडी टीम द्वारा रखी गई चुनौतियों (विषयों) पर 340+आवेदन मिले। पिछले सात संस्करणों में, इस वार्षिक नवाचार चुनौती को 2000+पंजीकरण और 1200+प्रस्ताव मिले हैं, जिनमें से विविध क्षेत्रों के 55+आइडिया पर अन्वेषण किया गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.