लोगों के घर तक पहुंचेंगे प्राकृतिक और प्रतिरक्षा बढ़ाने वाले आदिवासी उत्पाद

0
  • ट्राइब्स इंडिया ऑन व्हील्स को केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने दिखाई हरी झंडी
  • मुंबई, दिल्‍ली, रांची, खूंटी सहित देश के 31 शहरों में चलेगी 57 मोबाइल वैन

दैनिक झारखंड न्‍यूज

नई दिल्‍ली/रांची । केंद्रीय जनजातीय मामलों के मंत्री अर्जुन मुंडा ने देश भर के 31 शहरों में वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से ‘ट्राइब्स इंडिया ऑन व्हील्स’ मोबाइल वैन को 19 अगस्‍त को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। शुरुआत में अहमदाबाद, इलाहाबाद, बैंगलोर, भोपाल, चेन्नई, कोयंबटूर, दिल्ली, गुवाहाटी, हैदराबाद, जगदलपुर, खूंटी, मुंबई और रांची जैसे शहरों में 57 मोबाइल वैन चलेगी।

इस अवसर पर अर्जुन मुंडा ने कहा कि इन प्रयासों के दौर में कोविड-19 ने एक से अधिक तरीकों से जीवन को बाधित किया है। लोग यथासंभव सुरक्षित रहने और रहने के स्वस्थ तरीकों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। ट्राइफेड की पहल यह सुनिश्चित करती है कि किसी को आवश्यक प्राकृतिक प्रतिरक्षा बढ़ाने वाले उत्पाद उपलब्ध कराया जाए। इस संकट के  समय में ‘गो ट्राइबल’ के लिए एक मंत्र ‘गो वोकल फॉर लोकल, गो ट्राइबल’ का नारा दिया है। मोबाइल वैन की इस नवीन पहल के साथ ट्रायफेड अब इन सामानों को सीधे विभिन्न इलाकों में ग्राहक के पास ले जा रहा है। एक ही छूट की पेशकश कर रहा है। बिक्री से होने वाली सभी आय सीधे आदिवासियों के पास जाएगी। उनकी आय और आजीविका को बनाए रखने में मदद मिलेगी।

मौके पर राज्य मंत्री श्रीमती रेणुका सिंह सरुता ने कहा कि इस पहल से ग्रामीण इलाकों में रहने वाले आदिवासियों को मदद मिलेगी। आरसी मीणा ने कहा कि प्रभावित जनजातीय लोगों (कारीगरों और वनवासी) को रोजगार का नया प्लेटफार्म मिलेगा। ट्राईफेड के एमडी प्रवीर कृष्ण ने कहा कि ट्राइब्स इंडिया ऑन व्हील्स प्रकृति के इनाम को अपने दरवाजे तक पहुंचाने का प्रयास है। ये मोबाइल वैन प्राकृतिक और प्रतिरक्षा बढ़ाने वाले आदिवासी उत्पाद जैसे ऑर्गेनिक हल्दी, ड्राई आंवला, जंगली शहद, काली मिर्च, रागी, त्रिफला और मसूर के घोला को सीधे ग्राहकों के दरवाजे तक पहुंचाएगा। मूंग दाल, उड़द दाल और सफेद सेम सीधे अगले कुछ महीनों में ग्राहकों तक पहुंचेगा।

ट्राइफेड ने अपनी ट्राइब्स इंडिया वेबसाइट और अमेजन, फ्लिपकार्ट और जीईएम जैसे अन्य रिटेल प्लेटफॉर्म्स के माध्यम से इन बेची गई वस्तुओं को ऑनलाइन (पर्याप्त छूट की पेशकश) बाजार में लाने के लिए एक आक्रामक योजना शुरू की है। कार्यक्रम में ट्राइफेड के अध्यक्ष रमेश चंद मीणा, जनजातीय कार्य मंत्रालय के सचिव दीपक खांडेकर और ट्राईफेड के प्रबंध निदेशक प्रवीर कृष्ण भी उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.