टीवी नरेंद्रन अगले पांच साल तक बने रहेेंगे एमडी, सालाना वेतन 11 करोड़ हुआ

0
  • टीवी नरेंद्रन और चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर कौशिक चटर्जी के वेतन बढ़ोतरी को भी मंजूरी

दैनिक झारखंड न्यूज

जमशेदपुर । टाटा स्टील की आमसभा में ग्लोबल सीईओ सह एमडी के तौर पर टीवी नरेंद्रन के सेवा विस्तार को मंजूरी मिली है।  अगले पांच साल तक टीवी नरेंद्रन कंपनी के एमडी बनेे रहेंगे। टीवी नरेंद्रन और चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर कौशिक चटर्जी के वेतन बढ़ोतरी को भी मंजूरी दी गई। टीवी नरेंद्रन को इस साल 1122.63 लाख रुपए तथा कौशिक चटर्जी को इस साल 1082.14 लाख रुपए वेतन सहित अन्य मद में मिलेंगे। टाटा स्टील वर्ष 2025 तक 30 मिलियन टन का उत्पादन करेगी।

तत्काल कंपनी को घाटे से निकालने और कर्ज को कम करने पर बल दिया जाएगा

शुक्रवार अपराह्न तीन बजे से मुंबई के बिरला मातोश्री सभागार में हुई एजीएम में कंपनी के भविष्य से जुड़ी योजनाओं की घोषणा की गई। कंपनी कलिंगनगर प्रोजेक्ट के विस्तारीकरण के दूसरे चरण के लिए 600 मिलियन डॉलर जुटा रही है। प्रोजेक्ट को मंजूरी के साथ इसमें तेजी लाकर तत्काल कंपनी को घाटे से निकालने और कर्ज को कम करने पर बल दिया जाएगा। इसके तहत कलिंगानगर की उत्पादन क्षमता को वर्ष 2022 तक तीन मिलियन टन से बढ़ाकर आठ मिलियन टन करने का लक्ष्य रखा गया है। एजीएम में चेयरमैन एन. चंद्रशेखरन के अलावा तमाम निदेशक, एमडी, सीएफओ समेत तमाम शेयरधारक मौजूद थे।

कर्ज घटाने पर रहेगा फोकस : एन. चंद्रशेखरन

टाटा स्टील के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने कहा कि कंपनी का फोकस भारतीय इकाइयों के उत्पादन क्षमता में बढ़ोतरी करने पर है। ऋण को कम करने के लिए विशेष रूप से प्रयास किए जाएंगे। एजीएम में शेयरधारकों को 13 रुपये लाभांश देने की भी घोषणा की गई।

इस दौरान शेयरधारकों ने कंपनी को यूरोपीय प्लांट को लेकर फैसला लेने को कहा ताकि कंपनी का कर्ज कम हो सके और बोझ भी घटाया जा सके। कंपनी ने सीएसआर पर भारी भरकम राशि खर्च की है। कंपनी अगले वर्ष बिक्री के आंकड़े में भी बढ़ोत्तरी करेगी। कलिंगनगर प्रोजेक्ट के बारे में कौशिक चटर्जी की ओर से एजीएम के बाद जानकारी दी गई।

नरेन्द्रन का वेतन

पिछले साल 942.94 लाख रुपए
इस बार 1122.63 लाख रुपए
कुल बढ़ोतरी 179.69 लाख रुपए

कौशिक चटर्जी का वेतन

पिछले साल 913.80 लाख रुपए
इस बार 1082.14 लाख रुपए
कुल बढ़ोतरी 168.34 लाख रुपए
Leave A Reply

Your email address will not be published.