स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार: झारखंड में सबसे स्वच्छ विद्यालय का पुरस्कार प्राइमरी स्कूल कुटमू, लोहरदगा को

0
  • अलग-अलग श्रेणियों में कुल 119 विद्यालयों का चयन पुरस्कार के लिए किया गया
  • तीन दिसंबर को इन नौ स्कूलों को सम्मानित करेंगी सीएम

दैनिक झारखंड न्यूज

रांची झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद ने सत्र 2019-20 के लिए राज्य स्तरीय स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार की घोषणा कर दी है। अलग-अलग श्रेणियों में कुल 119 विद्यालयों का चयन पुरस्कार के लिए किया गया है। सबसे स्वच्छ विद्यालय का पुरस्कार प्राइमरी स्कूल कुटमू, लोहरदगा को दिया जाएगा। जबकि जिस शहर से इस पुरस्कार की परिकल्पना की गई है और इसे लागू कराने वाले मंत्री से लेकर अधिकारी तक जिस शहर और जिले में रहते हैं उस शहर का एक भी स्कूल स्वच्छता के पैमाने पर खरा नहीं उतर पाया है। 119 स्कूलों में रांची के दो मात्र स्कूल शामिल हुए हैं। उनमें भी एक अर्द्ध-सरकारी स्कूल हैं।

पेयजल और स्वच्छता की व्यवस्था के आधार पर हुआ है चयन

मुख्यमंत्री स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार के तहत ऐसे स्कूलों का चयन किया गया है जहां पेयजल की पर्याप्त व्यवस्था है। इन्हें स्वच्छ और बचा के रखने की व्यवस्था है। स्कूल में शौचालय हो और उन्हें स्वच्छ रखा जा रहा हो । इसके अलावा स्कूल परिसर में चहारदीवारी हो और कैंपस में पेड़ पौधे हों और यहां के बच्चों में स्वच्छता के प्रति जागरुकता हो। इन्हीं सब के आधार पर स्कूलों को विभिन्न श्रेणियों में बांटा गया है।

10 कैटेगरी में हुआ चयन, नौ में रांची के स्कूल बाहर

स्कूलों का चयन 10 अलग-अलग श्रेणियों में किया गया है। इसमें प्राइमरी रूरल, प्राइमरी अर्बन, एलिमेंट्री रूरल, एलिमेंट्री अर्बन, सेकेंड्री रूरल, सेकेंड्री अर्बन, रेसीडेंशियल, प्राइवेट और स्पेशल स्कूल शामिल हैं।इनमें एक एलिमेंट्री रूरल को छोड़ दें तो किसी भी श्रेणी में रांची के स्कूल शामिल नहीं हैं।

तीन दिसंबर को इन नौ स्कूलों को सम्मानित करेंगी सीएम

तीन दिसंबर को राज्य व जिला स्तर पर चयनित सभी स्कूलों को सम्मानित किया जाएगा। श्रेष्ठ नौ स्कूलों को सीएम रांची में सम्मानित करेंगे। इनमें प्राइमरी स्कूल कुटमु लोहरदगा, प्राइमरी स्कूल गोलापुर, देवघर, राजकीय एमएस कसवागढ़, बोकारो, योगदा सतसंग हाई स्कूल जगन्नाथपुर, केजीबीवी सेन्हा, लोहरदगा, समर्थ रेसीडेंशियल स्कूल, गोलमुरी, जमशेदपुर, सरस्वती विद्या मंदिर स्कूल, गुमला।

44 हज़ार से अधिक स्कूलों के बीच प्रतियोगिता

मुख्यमंत्री स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार योजना के लिए आयोजित ऑनलाइन प्रतियोगिता में राज्यभर के शहरी और ग्रामीण इलाकों में स्थित 44,441 विद्यालयों ने भाग लिया था। स्वच्छता के पांच मानकों के आधार पर इन सभी विद्यालयों का आकलन कर ग्रेडिंग दी गई। इन मानकों में पेयजल व्यवस्था, शौचालय, हैंड वॉश, ऑपरेशन एंड मेंटनेंस और बिहेवियरल चेंज एंड केपेसिटी बिल्डिंग शामिल है।

विभिन्न मानकों पर की गई है रेटिंग

पांच मानकों के आधार पर विद्यालयों को भी पांच श्रेणियों में बांटकर स्टार ग्रेडिंग की गई। इसमें 90 से 100 प्रतिशत प्राप्तांक प्राप्त करने वाले विद्यालयों को पांच स्टार, 75 से 89 प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाले विद्यालयों को चार स्टार, 51 से 74 प्रतिशत अंक हासिल करने वाले विद्यालयों को तीन स्टार, 35 से 50 प्रतिशत तक अंक वाले विद्यालयों को दो स्टार और 35 प्रतिशत से कम प्राप्तांक प्राप्त करने वाले विद्यालयों को एक स्टार प्रदान किया गया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.