टीएसपीसी का सबजोनल कमांडर ने चतरा में किया आत्मसमर्पण

0

दैनिक झारखंड न्यूज

चतरा। लंबे अर्से के बाद तृतीय सम्मेलन प्रस्तुति कमेटी का एक उग्रवादी ने मंगलवार को यहां आत्मसमर्पण किया है। आत्मसमर्पण करने वाला सब जोनल कमांडर उदेश गंझू ने एक अमेरिकन सेमी राइफल और 150 चक्र कारतूस भी पुलिस को सौंपा है। एसपी कार्यालय में उसने आत्मसमर्पण किया। वह चतरा, लातेहार और पलामू जिलों में सक्रिय था। उसके विरुद्ध इन तीनों जिलों के विभिन्न थानों में आठ मामले दर्ज हैं।

पिछले तेरह वर्षों से संगठन में सक्रिय था

आत्मसमर्पण के तुरंत बाद उसकी पत्नी उर्मिला देवी को राज्य सरकार की आत्मसमर्पण एवं पुनर्वास नीति के तहत पांच लाख रुपये का चेक प्रदान किया गया। उदेस ने पुलिस अधीक्षक ऋषव कुमार झा के समक्ष आत्मसमर्पण किया है। जिले के लावालौंग थाना क्षेत्र के सिलिदाग गांव निवासी कमलदेव गंझू का पुत्र उदेस उर्फ सुकूल पिछले तेरह वर्षों से संगठन में सक्रिय था। उस पर सरकार ने पांच लाख रुपये का इनाम रखा था। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जिला पुलिस एवं सीआरपीएफ 190वीं बटालियन द्वारा चलाया जा रहा संयुक्त अभियान और सरकार की आत्मसमर्पण एवं पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर उदेस ने पुलिस के समक्ष हथियार डाला है।

पांच लाख रुपये का चेक उदेस की पत्नी को दिया गया

पुलिस अधीक्षक ने अपने कार्यालय कक्ष में आयोजित पत्रकार वार्ता में कहा कि नक्सलियों एवं उग्रवादियों का खैर नहीं है। वे हथियार डालें या फिर पुलिस की कार्रवाई के लिए तैयार रहें। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि सरकारी प्रावधानों के मुताबिक पांच लाख रुपये का चेक उदेस की पत्नी को दिया गया है। प्रावधान के तहत अन्य सुविधाएं भी मुहैया कराई जाएंगी। उसके विरुद्ध दर्ज मामलों को जल्द से जल्द निष्पादन कराने की कोशिश की जाएगी।

एसपी ने बताया कि सब जोनल कमांडर के खिलाफ सदर थाना में एक, लावालौंग में दो, पलामू के छतरपुर में चार एवं मनातू थाना में एक मामला दर्ज है। आत्मसमर्पण के मौके पर सीआरपीएफ 190वीं बटालियन के कमांडेंट पवन कुमार बसन, अपर पुलिस अधीक्षक अभियान निगम प्रसाद, सिमरिया के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी बचनदेव कुजूर एवं अन्य उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.