घातक कोरोना वायरस मिलने के बाद ब्रिटेन जाने वाले विमानों पर लगी पाबंदी

0

दैनिक झारखंड न्यूज

नई दिल्ली । दुनिया में कोरोना महामारी के नए और ज्यादा घातक रूप की दहशत है। ब्रिटेन में यह नया स्ट्रेन सामने आया है। इसके बाद केंद्र सरकार ने भारत और ब्रिटेन के विमानों की आवाजाही पर पाबंदी लगा दी है। भारत और ब्रिटेन की बीच सभी विमान सेवाएं आज रात 12 के बाद रद्द कर दी गई है। मिली जानकारी के मुताबिक यह प्रतिबंध आगामी 31 दिसंबर तक लागू रहेगा।

गौरतलब है कि इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने उच्चस्तरीय बैठक बुलाई थी और डॉ. हर्षवर्धन का कहना है कि देश में किसी को डरने या घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि कोरोना के खिलाफ भारत की तैयारियां पुख्ता है। इससे पहले एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा, भारत में टीकाकरण की दिशा में तेजी से काम हो रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हॉ. हर्षवर्धन ने ANI को दिए इंटरव्यू में कहा है, ‘व्यक्तिगत तौर पर मेरा मानना है कि जनवरी में किसी भी समय हम देश की जनता को पहला टीका लगाने की स्थिति में होंगे।

कोविड-19 के टीके और शोध के मामले में भारत किसी भी देश से पीछे नहीं है। वैक्सीन का सुरक्षित होना और प्रभावी होना हमारी प्राथमिकता में है। इस मामले में हम कोई समझौता नहीं चाहते हैं। 6 से 7 महीने में हमारे पास करीब 30 करोड़ आबादी को टीका देने की क्षमता होगी। इस बीच, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मांग की थी कि सरकार को ब्रिटेन जाने या आने वाली सभी फ्लाट्स को रद्द कर दिया जाना चाहिए।

पढ़िए स्वास्थ्य मंत्री के इंटरव्यू की बड़ी बातें

भारत में अभी कोरोना के लगभग 3 लाख सक्रिय मामले हैं। कुछ महीने पहले, हमारे पास लगभग 10 लाख मामले थे। कुल 1 करोड़ से अधिक मामलों में से 95 लाख से अधिक ठीक हो चुके हैं। हमारी रिकवरी दर दुनिया में सबसे अच्छी है।

मुझे लगता है कि सबसे बुरा शायद खत्म हो गया है, लेकिन हमें अभी भी सावधानी बरतन है। हमें कोरोना महामारी से जुड़ी गाइडलाइन का कड़ाई से पालन करने की आवश्यकता है। अभी भी हम COVID के खिलाफ कोई जोखिम नहीं उठा सकते हैं। मास्क लगाना, हाथ सैनेटाइज करते रहना और शारीरिक दूरी का पालन जारी रखना होगा।

राज्य, जिला और ब्लॉक स्तरों पर टास्क फोर्स का गठन किया

हमारी पहली प्राथमिकता टीकों की सुरक्षा और प्रभावशीलता रही है। हम उस पर कोई समझौता नहीं करना चाहते हैं। मुझे व्यक्तिगत रूप से लगता है, शायद जनवरी के किसी भी सप्ताह में, हम भारत के लोगों को पहला COVID वैक्सीन शॉट देने की स्थिति में हो सकते हैं। राज्य सरकारों के साथ केंद्र सरकार पिछले 4 महीनों से राज्य, जिला और ब्लॉक स्तरों पर तैयारी कर रही है।

हमने राज्य, जिला और ब्लॉक स्तरों पर टास्क फोर्स का गठन किया है। देश भर में हजारों मास्टर ट्रेनर प्रशिक्षित किए गए हैं। हमने राज्य स्तर पर प्रशिक्षण आयोजित किया है और लगभग 260 जिलों में 20,0 00 से अधिक कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित किया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.