नवाब मलिक ने समीर वानखेड़े पर लगाया फर्जी दस्तावेज बनाने का बड़ा आरोप, निकाहनामा जारी किया

0

दैनिक झारखंड न्यूज

मुंबई। महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक और नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े के बीच खींचतान बढ़ती जा रही है। नवाब ने समीर और एनसीबी पर कई आरोप लगाए हैं। महाराष्ट्र मंत्री ने दावा किया कि उनके पास विश्वसनीय दस्तावेज हैं, जो साबित करते हैं कि समीर वानखेड़े का जन्म एक मुस्लिम परिवार में हुआ। उन्होंने जाली पहचानपत्र बनाया और अनुसूचित जाति वर्ग के तहत नौकरी पाई। कानूनी तौर पर इस्लाम धर्म अपनाने वाले दलितों को आरक्षण का लाभ नहीं मिलता। ऐसे में समीर ने अनुसूचित जाति के एक योग्य व्यक्ति के नौकरी का अवसर छीन लिया। मंत्री ने एक नया इलजाम लगाया है। उन्होंने समीर वानखेड़े का निकाहनामा जारी कर दिया है।

ट्विटर पर जारी किया निकाहनामा

नवाब मलिक के ट्विटर पर लिखा है, ‘साल 2006 में 7 दिसंबर गुरुवार रात 8 बजे समीर दाऊद वानखेड़े और शबाना कुरैशी के बीच निकाह हुआ था।’ यह मुंबई के अंधेरी (वेस्ट) के लोखंडवाला कॉम्पलेक्स में हुआ था। मलिक ने दूसरे ट्वीट में बताया कि निकाह में 33 हजार रुपए मेहर के रूप में अदा की गई। इसमें गवाह नंबर दो अजीज खान थे। जो यासमीन दाऊद वानखेड़े के पति हैं। वह समीर की बहन है।

फोन टैप करने का आरोप

नवाब मलिक ने इससे पहले समीर वानखेड़े पर गैरकानूनी तरीके से फोन टैप करने का इलजाम लगाया था। उन्होंने कहा कि वह गलत कामों पर एक लेटर एजेंसी के प्रमुख को सौंपेंगे। मलिक ने कहा, ‘वानखेड़े मुंबई और ठाणे के दो लोगों के जरिये कुछ लोगों के मोबाइल फोन पर गैरकानूनी तरीके से नजर रख रहे हैं।’ बता दें मंत्री अपने दामाद की गिरफ्तारी के बाद से लगातार समीर पर निशाना साध रहे हैं।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.