एचईसी को दुरुस्त किया जाए, हजारों लोग इसपर निर्भर : डॉक्टर गया प्रसाद शर्मा

0

दैनिक झारखंड न्यूज

रांची। भारतीय कामगार श्रमिक संघ की दो दिवसीय राष्ट्रीय बैठक गत दिनों रांची नगर स्थित सन्नी रेस्टहाउस में संघ के राष्टीय अध्यक्ष डॉक्टर गया प्रसाद शर्मा की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक में राष्टीय अध्यक्ष डॉक्टर गया प्रसाद शर्मा ने मुख्य रूप से भारत सरकार से आग्रह किया है कि एशिया स्तर के हैवी इंजीनियरिंग कॉरपोरेशन लिमिटेड जो बंद होने के कगार पर है उन्हें दुरुस्त किया जाय। इस संबंध में श्री शर्मा ने बताया कि एच. ई. सी. कॉरपोरेशन लिमिटेड यूनिटों में कम से कम 32000 से 40000 छोटे बड़े कर्मचारियों की जीवन अंधकार में है।

उन्होनें कहा कि इस कॉरपोरेशन के अंदर एच. एम. बी. पी., एफ.एफ पी. और एच. एम. टी. पी. यूनिटों में लगभग सभी यूनिट बंद हो चुकी है जिसमे एच. एम. बी. पी. यूनिट चालू है वो भी बंद होने के कगार पर है। इस समस्या को लेकर संघ के वरीय पदाधिकारी उक्त संबंध में भारत सरकार के संबंधित पदाधिकारी से मिलेंगे।

‘ज्ञान रसानंद काव्य संग्रह’ का हुआ लोकार्पण

इधर दो दिवसीय राष्ट्रीय बैठक में संघ के कार्य बिस्तर पर भी चर्चा की गई साथ ही कार्यक्रम के दौरान ‘ज्ञान रसानंद काव्य संग्रह’ डॉक्टर विनय कुमार विष्णुपुरी द्वारा रचित पुस्तक का लोकार्पण डॉक्टर गया प्रसाद शर्मा द्वारा किया गया। इस अवसर पर मंचासिन राष्ट्रीय और प्रांतीय पदाधिकारी भी मौजूद थे। साथ ही पूरे देश भर में संगठन खड़ा करना, संगठन प्रशिक्षण कार्यशाला, संघ की वार्षिक योजना रिपोर्ट पत्रिका का विमोचन, संघ द्वारा स्वामी विवेका नंद जयंती, विश्वकर्मा पूजा और 23 एव 24 अप्रैल को संघ स्थापना दिवस को राष्ट्रीय पर्व के रूप में मानने का निर्णय लिया गया है। इधर कोविड से दिवंगत हुए संघ के वरीय पदाधिकारी दिनेश चंद्र श्रीवास्तव (राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष), मैथिली शरण गुप्त (राष्ट्रीय उपाध्यक) और शंकर प्रसाद गुप्ता (झारखंड राज्य उपाध्यक्ष) को श्रंधानजली दी गई। इसी दो दिवसीय राष्ट्रीय बैठक में संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉक्टर विनय कुमार विष्णुपुरी, राष्ट्रीय संगठन मंत्री देवेश कुमार, राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री शुभम् शर्मा और कार्यसमिति संघ से राणा विश्वनाथ सिंह, रणधीर कुमार श्रीवास्तव, रीता पासवान, अंजनी कुमार सिंह, सुधीर झा, सुनील ठाकुर के अलावा कई लोग उपस्थित हुए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.