14 हजार पारा शिक्षकों के लिए खुशखबरी, अब बन सकेंगे सरकारी शिक्षक; जानें बड़ी वजह

0

दैनिक झारखंड न्यूज

रांची। राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी संस्थान (एनआइओएस) से डीएलएड (डिप्लोमा इन एलिमेंट्री एजुकेशन) पाठ्यक्रम उत्तीर्ण राज्य के लगभग 53 हजार शिक्षकों के लिए अच्छी खबर है। इनका सरकारी शिक्षक बनने का रास्ता साफ हो गया है। राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) ने एनआइओएस के डीएलएड पाठ्यक्रम को प्राथमिक शिक्षक के पद पर नियुक्ति के लिए मान्यता छह जनवरी को दी।

एनआइओएस के रांची स्थित क्षेत्रीय कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार अबतक इस संस्थान से झारखंड के 53,136 लोगों ने डीएलएड पाठ्यक्रम पूरा किया है। इनमें निजी स्कूलों में पढ़ा रहे शिक्षक के अलावा पारा शिक्षक शामिल हैं। इनमें 14 हजार पारा शिक्षकों ने एनआइओएस से डीएलएड का पाठ्यक्रम पूरा किया है। बताया जाता है कि एनसीटीई ने पटना हाईकोर्ट के एक आदेश के आलोक में इस पाठ्यक्रम की मान्यता प्रदान की है। एनआइओएस ने मान्यता दिए जाने की जानकारी राज्य के मुख्य सचिव को पत्र भेजकर दी है।

ऐसे किया था एनआइओएस से डीएलएड पाठ्यक्रम

निश्शुल्क एवं अनिवार्य शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत सरकारी या निजी स्कूलों में पढ़ानेवाले सभी शिक्षकों को प्रशिक्षित होना अनिवार्य है। इसे लेकर केंद्र सरकार ने अप्रशिक्षित रह गए सभी शिक्षकों को 31 मार्च 2019 तक एनआइओएस से डीएलएड पाठ्यक्रम करने का अवसर प्रदान किया था। इस अवसर का लाभ लेते हुए राज्य से लगभग 53 हजार लोगों (निजी स्कूलों के अप्रशिक्षित शिक्षक तथा अप्रशिक्षित पारा शिक्षक) ने यह पाठ्यक्रम दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से पूरा किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.