किसान अपनी मांगों पर अड़े, प्रदर्शन लगातार जारी

0

दैनिक झारखंड न्यूज

नई दिल्ली । कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली से लगती सीमाओं पर किसानों का प्रदर्शन रविवार को भी 10वें दिन जारी है। इस बीच बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। शनिवार को किसान संगठनों और केंद्र के बीच बातचीत का कोई ठोस नतीजा नहीं निकला। किसानों के प्रदर्शन की वजह से दिल्ली-एनसीआर की सीमाओं में लोगों को भीषण जाम का सामना करना पड़ रहा है। शनिवार को किसानों ने दिल्ली-नोएडा बॉर्डर को पूरी तरह से सील कर दिया। इससे दिल्ली-नोएडा लिंक रोड पर अक्षरधाम के पास भीषण जाम लग गया।

पश्चिमी दिल्ली में जाम की समस्या नहीं

पुलिस ने अक्षरधाम से रूट को डायवर्ट कर एनएच-9 पर वाहन चालकों को निकाला। यूपी गेट बंद होने से एनएच-9 से दिल्ली आने वाले लोगों को खोड़ा कट से नहर के रास्ते गाजीपुर होते हुए दिल्ली में प्रवेश मिला। उधर, दक्षिणी दिल्ली में आश्रम से सराय कालेखां जाने वाले मार्ग पर भी लोगों को जाम का सामना करना पड़ा। हालांकि का¨लदी कुंज, बदरपुर और डीएनडी पर यातायात सामान्य रहा। पश्चिमी दिल्ली में जाम की समस्या नहीं रही। टीकरी बॉर्डर पर भी वाहनों को दो अलग-अलग दिशाओं में डायवर्ट किया गया। बाहरी दिल्ली में भी कहीं जाम नहीं लगा।

  • चिल्ला रेगुलेटर बार्डर पर धरने पर बैठे भारतीय किसान यूनियन (भानु ) से जुड़े सदस्यों ने नोएडा-दिल्ली के बीच होने वाली आवश्यक सेवाओं की आपूर्ति को बाधित करने की चेतावनी दी है। धरने पर बैठें किसानों का कहना है केंद्र सरकार उनकी मांगों की लगातार अनदेखी की जा रही है। इसलिए अब उनके पास यही एक मात्र रहा है कि वह दिल्ली-नोएडा के प्रमुख बार्डर से होने वाली आवश्यक सेवा दूध, सब्जी, फल आदि की आपूर्ति को बाधित करके सरकार का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करें।
  • मुख्यमंत्री  केजरीवाल के निर्देश पर शनिवार को आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय प्रवक्ता और विधायक राघव चड्ढा कृषि कानूनों के खिलाफ  सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों के बीच पहुंचे। इस दौरान उन्होंने सेवादार बनकर किसानों को फल बांटे। चड्ढा ने ट्वीट कर कहा कि रोजाना हम देख रहे हैं कि केंद्र सरकार बैठक कर रही है। किसानों की इतनी सरल मांगें हैं तो प्रतिदिन बैठक करने का क्या मतलब है? उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से केंद्र द्वारा प्रतिदिन बैठक की जा रही है, उससे केंद्र की नीयत पर सवाल खड़ा होता है। उन्होंने कहा कि केंद्र के नेता नीयत साफ रखें और देश के किसानों की बात मानें।
  • किसानों के आंदोलन को आम आदमी पार्टी (आप) लगातार समर्थन दे रही है। पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने ट्वीट कर कहा कि किसान सड़कों पर आंदोलन कर रहे हैं, लेकिन केंद्र सरकार सुनने को तैयार नहीं है। केंद्र सरकार टालमटोल करने के बजाय किसानों की मांगों को पूरा करे। राय ने कहा कि दिल्ली की सीमा पर अन्नदाता सड़कों पर रात गुजार रहे हैं, यह ठीक नहीं है।
Leave A Reply

Your email address will not be published.