किसान आंदोलन : सरकार ने भेजा वार्ता का प्रस्ताव, मंगलवार को विचार करेंगे किसान

0

दैनिक झारखंड न्यूज

नई दिल्ली । कृषि कानूनों के खिलाफ सरकार और किसानों के बीच टकराव कम होने के संकेत मिले हैं। सरकार की ओर से किसानों को चिट्ठी लिखकर पूछा गया है कि वे अगले दौर की वार्ता कब करना चाहते हैं। केंद्रीय कृषि मंत्रालय के संयुक्त सचिव विवेक अग्रवाल ने क्रांतिकारी किसान संगठन के अध्यक्ष दर्शन पाल को चिट्ठी लिखकर वार्ता की तारीख पूछी है। इस चिट्ठी पर किसान संगठन विचार कर रहे हैं।

इस बारे में मंगलवार सुबह किसान संगठनों की अहम बैठक होगी। सरकार लगातार संकेत दे रही है कि वह किसानों की आपत्ति को सुनने और निराकरण करने के लिए तैयार है। वहीं किसान इस जिद्द पर अड़े हैं कि तीनों कृषि कानून वापस लिए जाएं। इस बीच, किसान संगठनों ने अपने प्रदर्शन को धार देने के लिए नया शेड्यूल जारी कर दिया है।

किसानों के विरोध प्रदर्शन का नया शेड्यूल

21 दिसंबर: भूख हड़ताल। जहां जहां किसान प्रदर्शन चल रहे हैं, वहां भूख हड़ताल की जाएगी।

23 दिसंबर: किसान दिवस के मौके पर किसान एक वक्त का भोजन नहीं करेंगे।

25 दिसंबर: किसान नेता भाजपा नेताओं और मोदी सरकार के सहयोगी दलों के नेताओं को ज्ञापन सौपेंगे।

25 से 17 दिसंबर: हरियाणा से दिल्ली के बीच सभी टोल नाकों को मुफ्त किया जाएगा।

27 दिसंबर: रविवार को पीएम मोदी मन की बात करेंगे। इस दौरान किसान थाली और ताली बजाकर विरोध करेंगे।

जानिए दिल्ली में आज ट्रैफिक की स्थिति

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के मुताबिक, किसान आंदोलन के कारण टिकरी, धनसा सीमाएं बंद हैं। झटीकरा सीमा केवल दोपहिया और पैदल यात्रियों के लिए खुली है। दिल्ली से नोएडा के लिए चिला बॉर्डर वन कैरिजवे यातायात के लिए खुला है। हालांकि, नोएडा से दिल्ली के लिए दूसरा कैरिजवे बंद है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.