अलेप्पी एक्सप्रेस को चलाने के लिए धनबाद रेल मंडल तैयार; रांची, पटना, दुमका और हावड़ा के लिए भी खुलेंगी ट्रेनें

0

दैनिक झारखंड न्यूज

धनबाद। धनबाद से दक्षिण भारत को जोड़ने वाली अलेप्पी एक्सप्रेस के जल्द चलने की संभावना है। धनबाद रेल मंडल की ओर से इस ट्रेन की बढ़ती डिमांड से पूर्व मध्य रेल को अवगत कराने के बाद मुख्यालय स्तर पर रेलवे बोर्ड से इस ट्रेन को चलाने की सिफारिश की गई है। धनबाद के कर्मचारियों में इस बात की भी चर्चा है कि 22 दिसंबर से अलेप्पी एक्सप्रेस को चलाने की घोषणा हो सकती है। हालांकि अधिकारी फिलहाल इस बारे में जानकारी न होने की बात कह रहे हैं।

झारखंड के तीनों शहर आपस में होंगे कनेक्ट

पूर्व मध्य रेल के एक अधिकारी ने बताया कि रेलवे बोर्ड स्तर पर बातचीत चल रही है। अलेप्पी एक्सप्रेस के साथ कुछ और ट्रेनों को चलाने पर भी मंथन हो रहा है। ज्यादा संभावना है कि इसी महीने अलेप्पी एक्सप्रेस का परिचालन शुरू हो जाएगा। धनबाद-रांची इंटरसिटी, धनबाद-पटना इंटरसिटी, ब्लैक डायमंड और स्वर्णरेखा एक्सप्रेस को चलाने का निर्णय जल्द हो सकता है। इन तीनों ट्रेनों का परिचालन शुरू होने से झारखंड तीनों मुख्य शहर धनबाद, रांची और जमशेदपुर रेल सेवा से आपस में जुड़ जाएंगे। लॉकडाउन के बाद से ही तीनों शहरों के बीच रेल सेवा बाधित है।

अलेप्पी एक्सप्रेस नहीं चलने से कर्मचारी भी परेशान

धनबाद अलेप्पी एक्सप्रेस के नहीं चलने से आम यात्री और मरीज परेशान हैं ही रेल कर्मचारियों की भी परेशानी बढ़ गई है। ऐसे बहुत कर्मचारी हैं जिनका इलाज वेल्लोर में चलता है। कर्मचारियों के घरवाले भी इलाज के लिए वेल्लोर जाते हैं। आठ-नौ महीने से ट्रेन नहीं चलने से उनका इलाज  प्रभावित हो गया है। रांची, हावड़ा और सियालदह से वेल्लोर के काटपाडी स्टेशन तक पहुंचने का साधन है पर कंफर्म सीट मिलना मुश्किल है। साथ ही मरीज को लेकर ट्रेन बदल बदल कर सफर करना भी दुश्वारियों भरा है।

चैंबर और जेडआरयूसीसी सदस्य भी कर चुके अलेप्पी एक्सप्रेस की सिफारिश

अलेप्पी एक्सप्रेस को चलाने की सिफारिश धनबाद और बैंक मोड़ चैंबर ऑफ कॉमर्स के साथ जेडआरयूसीसी सदस्य भी कर चुके हैं। धनबाद रेल मंडल ने अलेप्पी एक्सप्रेस को चलाने की तैयारी कर ली है। सिर्फ रेलवे बोर्ड की हरी झंडी का इंतजार है। रेलवे बोर्ड की अनुमति मिलने के बाद 24 घंटे के अंदर परिचालन शुरू कर दिया जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.