चीन ने अब भूटान की जमीन पर किया दावा, भूटान ने खारिज की ड्रैगन की मांग

0

दैनिक झारखंड न्यूज

नई दिल्ली । चीन की विस्तारवादी नीति ने उसकी सीमा से लगे छोटे देशों के लिए खतरे की घंटी बजा दी है। वियतनाम, हांग-कांग, ताइवान आदि के बाद उसने हाल ही में 15 जून को भारतीय इलाके पर कब्जा जमाने के लिए भारतीय सैनिकों के साथ विवाद किया। अब उसकी नजरें भारत के पड़ोसी और छोटे देश भूटान की जमीन पर भी हैं। वैश्विक पर्यावरण सुविधा परिषद की 58वीं बैठक में चीन ने भूटान की भूमि पर दावा जताने की एक और नई चाल में चली है। चीन ने भूटान में स्थित सकतेंग वन्यजीव अभयारण्य के लिए एक परियोजना का “विरोध” करने की कोशिश रकते हुए कहा कि यह “विवादित” क्षेत्र था।

वास्तविकता यह है कि इस बात को लेकर कभी कोई विवाद नहीं रहा है कि अभयारण्य अतीत में कहां था। हालांकि, भूटान और चीन के बीच सीमा का सीमांकन अभी तक नहीं किया गया है। भूटान ने भूटान को संभालने वाले प्रतिनिधि को एक मजबूत नोट भेजा। संदेश में कहा गया है, “सकतेंग वन्यजीव अभयारण्य भूटान का एक अभिन्न और संप्रभु क्षेत्र है।

दिलचस्प बात यह है कि यह वन्यजीव अभयारण्य कभी भी वैश्विक फंडिंग का हिस्सा नहीं था, इसलिए पहली बार जब यह अंतरराष्ट्रीय मंच पर एक परियोजना के रूप में सामने आया, तो चीन ने इस जमीन पर दावा करने का मौका बना लिया। हालांकि, आपत्तियां उठाई गईं और चीन ने इस कदम का विरोध किया, लेकिन परिषद के अधिकांश सदस्यों द्वारा परियोजना को मंजूरी दे दी गई और इसे अंतिम सारांश में जगह मिल गई।

इस मंच पर चीन का एक प्रतिनिधि था, भूटान के पास एक प्रत्यक्ष प्रतिनिधि नहीं था और बांग्लादेश, भूटान, भारत, मालदीव, नेपाल, श्रीलंका के विश्व बैंक प्रभारी भारतीय आईएएस अधिकारी अपर्णा सुब्रमणि ने भूटान का प्रतिनिधित्व किया।

बताते चलें कि दो जून को जब परियोजनाओं पर चर्चा हो रही थी, तो चीनी परिषद के सदस्य झोंगजिंग वांग, चीन में अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक और वित्तीय सहयोग विभाग के उप निदेशक ने भूटान में इस परियोजना पर आपत्ति जताते हुए इसे औपचारिक रूप से नोट करने और फुटनोट में विधिवत रूप से सत्यापित करने को कहा। मगर, अगले दिन जब अंतिम सारांश को अपनाया जाना था, तो चीनी प्रतिनिधि ने कहा कि यह अब कोई आपत्ति नहीं थी और चीन इससे परहेज करेगा। इसके बजाय उसने कहा कि बीजिंग परियोजना का “विरोध” कर रहा था और इसे सारांश का हिस्सा बनाया जाना चाहिए।

तब भारतीय अधिकारी अपर्णा सुब्रमणि ने भूटान की तरफ से बोलते हुए इस मामले में हस्तक्षेप किया और कहा कि यह दावा “बिना-चुनौती” के नहीं है और चीनी बयान के साथ आगे बढ़ना तब तक उचित नहीं होगा, जब तक भूटान का रुख स्पष्टत नहीं है। जब जीईएफ परिषद की 58वीं बैठक के सीईओ और चेयरपर्सन नाओको इशी ने यह प्रस्तावित करके एक मध्यस्था करने की कोशिश की कि दोनों देशों के विचारों को सारांश के बजाय “आपत्ति” के रूप में जोड़ दिया जाए, बजाय “विरोध” के।

मगर, चीनी प्रतिनिधि अड़े थे क्योंकि उन्हें इसे मंजूरी देने का आदेश नहीं था और बीजिंग के निर्देश थे कि इसका विरोध किया जाना चाहिए और इसे सारांश का हिस्सा होना चाहिए। मगर, भूटान ने चीन के दावे को खारिज कर दिया और परिषद ने सकतेंग वन्यजीव अभयारण्य के लिए फंडिंग को मंजूरी दे दी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.