झुक गया चीन, इस बार चीन सिर्फ 7 दिन में पीछे हटने को राजी, डोकलाम में उसने 73 दिन लगाए थे

1

दैनिक झारखंड न्यूज

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच 11 घंटे तक चली कोर कमांडर स्तर की वार्ता के बाद, सरकार के सूत्रों ने मंगलवार को कहा कि बातचीत सौहार्दपूर्ण, सकारात्मक और रचनात्मक माहौल में हुई और इसमें दोनों पक्षों के बीच सैनिकों को हटाने पर सहमति बन गई है। सरकारी सूत्रों ने कहा, पूर्वी लद्दाख में सभी संघर्ष वाले क्षेत्रों से होने सैनिकों के हटाने को लेकर तौर-तरीकों पर चर्चा की गई।

सीमा मुद्दे को सुलझाने और पूर्वी लद्दाख में तनाव कम करने के लिए दोनों देशों की सेना के कोर कमांडरों ने सोमवार को मोल्डो में मुलाकात की। पूर्वी लद्दाख में तनाव को कम करने के लिए 6 जून को पहली बार हुई इस तरह की यह दूसरी बैठक है।

माना जा रहा है कि भारत के दबाव में इस बार वह 7 दिन में ही झुक गया। 15 जून की रात गलवान में हिंसक झड़प हुई थी। इसके बाद सोमवार को चीन सीमा पर स्थित मॉल्डो में दोनों देशों के बीच लेफ्टिनेंट जनरल लेवल की बातचीत हुई, जो 11 घंटे चली। आर्मी की तरफ से मंगलवार को जारी बयान के मुताबिक, इसमें शांति कायम करने पर रजामंदी बनी। दोनों देश अब पूर्वी लद्दाख में टकराव वाली जगहों से अपने सैनिक पीछे हटाएंगे।

पिछली बार 30 दिन में राजी हुआ, लेकिन 7 दिन में पलट गया

चीन इस बार वाकई अपने सैनिक हटा लेगा या नहीं, इस पर शक है। दरअसल, यह पहला मौका नहीं है, जब चीन डिसएंगेज होने यानी सैनिकों को पीछे करने पर राजी हुआ है। वह एक बार अपनी बात से पलट चुका है। 5-6 मई को जब पूर्वी लद्दाख की पैंगोंग झील के फिंगर-5 इलाके में भारत-चीन के करीब 200 सैनिक आमने-सामने हो गए थे, तभी से चीन गलवान घाटी के पेट्रोल पॉइंट 14 पर जमा हुआ था।

उस वक्त भी मॉल्डो में ही बातचीत हुई थी

विवाद के 30 दिन बाद यानी 6 जून को जब मॉल्डो में ही भारत-चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल लेवल की बातचीत हुई थी। तब चीन पेट्रोल पॉइंट 14 से जवानों को पीछे हटाने पर राजी हो गया था। उसने अपने कैम्प भी हटा लिए थे। वहां 16 बिहार इंफैन्ट्री रेजिमेंट के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल संतोष बाबू इस पर नजर रखे हुए थे और चीन की सेना से बातचीत कर रहे थे।

8 दिन ही बीते थे कि 14 जून को चीन ने अचानक अपने कैम्प दोबारा खड़े कर दिए। जब कर्नल संतोष बाबू 15 जून की शाम 40 जवानों के साथ खुद बातचीत करने पहुंचे तो चीन के तकरीबन 300 सैनिकों ने उन पर हमला कर दिया। गलवान घाटी की इसी झड़प में कर्नल संतोष बाबू समेत भारत के 20 जवान शहीद हो गए।

डोकलाम में उसने 73 दिन लगाए थे

16 जून 2017 को डोकलाम में विवाद तब शुरू हुआ, जब भारतीय सेना ने वहां चीन के सैनिकों को सड़क बनाने से रोक दिया। चीन का दावा था कि वह अपने इलाके में सड़क बना रहा था। इस इलाके का भारत में नाम डोका ला है, जबकि भूटान में इसे डोकलाम कहा जाता है। चीन ने तब डोकलाम से पीछे हटने में 73 दिन लगाए। 28 अगस्त 2017 को चीन पीछे हटने को राजी हुआ और उसी दिन उसने सैनिक भी हटा लिए थे। बाद में वहां विवाद नहीं हुआ।

1 Comment
  1. Rathiraj says

    कोई भरोसा है कि चीनी फिर वही करेंगे जो पिछली बार किया था?

Leave A Reply

Your email address will not be published.