चीन ने धमाके से उड़ाया दुनिया का सबसे बड़ा बांध, जानिए वजह

0

दैनिक झारखंड न्यूज

नई दिल्ली । चीन में बारिश इस कदर कहर बरपा रही है कि इससे 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। लगातार हो रही मूसलाधार बारिश से चीन की नदियों का जलस्तर इतना बढ़ गया है कि कई शहरों में बाढ़ की स्थिति बन गई है। नदी के बेसिन से बाढ़ के दबाव को कम करने के लिए चीन ने एक बांध को धमाके के साथ उड़ा दिया।

चीन के सरकारी मीडिया चैनल सीसीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक नदी के बेसिन में बाढ़ के दबाव को कम करने के यांग्त्ज़ी नदी की सहायक चूही नदी पर बने शक्तिशाली बांध को विस्फोटक से उड़ा दिया। चीन में मूसलाधार बारिश की वजह से यांग्त्ज़ी सहित कई नदियों का जल स्तर असामान्य से बहुत अधिक बढ़ गया है। बीते हफ्ते यांग्त्ज़ी नदी पर बने तीन बांधो के फ्लडगेट खोले दिए गए थे क्योंकि दुनिया के सबसे बड़े इस डैम का जल स्तर 15 मीटर से अधिक बढ़ गया था।

करीब 38 लाख लोग बुरी तरह प्रभावित हुए हैं

पिछले हफ्ते वहां के आधिकारिक मीडिया रिपोर्ट में बताया गया था कि जून के बाद बारिश की वजह से 140 से अधिक लोग मारे गए या फिर लापता हो गए हैं। वहीं इससे करीब 38 लाख लोग बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। वहीं 2.24 लाख से ज्यादा लोगों को विस्थापित किया गया है। रविवार सुबह से लेकर सोमवार की सुबह तक, तिब्बत, युन्नान, गुइझोउ और गुआंग्शी के कुछ हिस्सों में भारी बारिश और आंधी-तूफान की आशंका है, अन्य क्षेत्रों के अलावा, राष्ट्रीय मौसम विज्ञान केंद्र ने चेतावनी देते हुए कहा कि जिलिन, लियाओनिंग और अनहुई के कुछ क्षेत्रों में भी ऐसी ही आशंका है। चीन में प्रतिदिन 150 मिमी बारिश हो रही है।

सतर्क रहने का आदेश दिया

वहां के मौसम विभाग ने आशंका जताई है कि कई क्षेत्रों में 70 मिमी प्रति घंटे से भी ज्यादा की रफ्तार से बारिश होगी, साथ ही गरज के साथ तेज़ हवाएं चलेंगी। चीनी सरकार ने अधिकारियों को संभावित बाढ़ और भूस्खलन को लेकर सतर्क रहने का आदेश दिया है। खतरनाक क्षेत्रों में बाहरी संचालन को रोकने की सिफारिश की गई है।  हाल के वर्षों में चीन में सबसे खतरनाक बाढ़ 1998 में आई थी, जब 2,000 से अधिक लोग मारे गए थे और लगभग 30 लाख घर बर्बाद हो गए थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.