शादी किये बिना रह रहे थे एक-दूजे के साथ, संस्था ने 278 जाेड़ाें की शादी कराई, इनमे 7 दुल्हनें थीं गर्भवती

0
  • संस्था एमआरएस श्रीकृष्ण प्रणामी सेवा धाम ट्रस्ट व स्वामी सदानंद प्रणामी चैरिटेबल ट्रस्ट ने कराया विवाह
  • समारोह में मौजूद रहे स्वामी सदानंद, बोले- आदिवासी संस्कृति को बचाना है तो ऐसे प्रयास जरूरी

दैनिक झारखंड न्यूज

रांची । सामाजिक और धार्मिक संस्था एमआरएस श्रीकृष्ण प्रणामी सेवा धाम ट्रस्ट व स्वामी सदानंद प्रणामी चैरिटेबल ट्रस्ट ने शनिवार काे 351 जाेड़ाें की शादी कराई। मारवाड़ी भवन में आयाेजित सामूहिक आदर्श विवाह समाराेह में 278 जाेड़े ऐसे हैं, जाे वर्षों से लिव इन रिलेशन में रह रहे थे। इनमें सात दुल्हनें गर्भवती भी थीं।

हजाराें युवक-युवतियां लिव इन रिलेशन में रहने काे मजबूर : स्वामी सदानंद

इन जाेड़ाें काे आशीर्वाद देने के लिए स्वामी सदानंद प्रणामी विवाह समाराेह में माैजूद थे। उन्हाेंने कहा-झारखंड में गरीबी के कारण आदिवासी और पिछड़ी जातियाें के लाेग समय पर अपनी बच्चियाें की शादी नहीं कर पाते। इस कारण हजाराें युवक-युवतियां लिव इन रिलेशन में रहने काे मजबूर हैं। हजाराें युवतियाें की शादी की उम्र इसी कारण खत्म हाे जाती हैं। आदिवासी संस्कृति बची रहे और बाहरी शक्तियां इनका नाजायज फायदा न उठाएं, इसके लिए ऐसे प्रयास जरूरी हैं। और इसीलिए मैंने इनकी शादी कराने का बीड़ा उठाया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.